Whether it is a cold, cold or bronchitis, there are ways to deal with them in Ayurveda

-सीमा कुमारी 

सर्दी का महीना शुरू होते ही मौसम का बदलना सेहत से जुड़ी कई परेशानियों को लेकर आता है. सर्दियों में एलर्जी होने की समस्या होने से खांसी, जुकाम आदि से ज्यादातर लोग परेशान रहते हैं. ऐसे में एलर्जी से राहत पाने के लिए कुछ आयुर्वेदिक जड़ी बूटी का सेवन करने से आपको आराम मिल सकता है. चलिए जानते हैं आयुर्वेदिक जड़ीबूटी से एलर्जी से छुटकारा कैसे पाए:

श्वासारि क्वाथ का महत्व:

आयुर्वेद में श्वासारि क्वाथ का सेवन करने से सालों पुरानी एलर्जी से राहत मिलती है. यह सर्दी, जुकाम, खांसी, गले में दर्द, बुखार, कब्ज, शरीर में दर्द, अपच, ब्रोंकाइटिस यानि सांस से जुड़ी समस्या आदि की परेशानियों के साथ अस्थमा और कैंसर जैसे रोगों से भी निजात दिलाती है.  

त्रिकुट चूर्ण का महत्व:

सर्दियों में  त्रिकुटा का बहुत अच्छा फायदा होता है. त्रिकुटा चूर्ण का रोजाना सेवन करने से इम्यूनिटी में बढ़ोतरी होती है. ऐसे में बीमारियों के लगने का खतरा न के बराबर हो जाता है. साथ ही सांस से जुड़ी समस्या से राहत मिलने के साथ एलर्जी, खांसी, जुकाम, गला दर्द आदि की परेशानी दूर होती है. भूख बढ़ाने के साथ पाचन तंत्र मजबूत होने के साथ फेफड़े बेहतर तरीके से काम करते हैं. इसे घर पर तैयार करने के लिए सौंठ यानी सूखा अदरक, काली मिर्च, पिप्पली को बराबर मात्रा में मिक्सी में पीस लें। तैयार चूर्ण को 2 से 3 बार शहद के साथ जीवा से चाटे.

हल्दी वाला दूध का महत्व:

हल्दी रसोई में इस्तेमाल होने वाली रेसिपी ही नहीं है. यह कई गुणों से भरी  है. यह एंटी- ऑक्सीडेंट, एंटी- वायरल आदि गुणों से भरपूर होती है हल्दी से इम्यूनिटी स्ट्रांग होती है. इससे सर्दी, खांसी, जुकाम, गले व पेट से जुड़ी परेशानियों से राहत मिलती है. हल्दी को दूध में मिलाकर भी पीया जा सकता है. हल्दी वाले दूध को तैयार करने के लिए एक ग्लाश गर्म दूध में आधा चम्मच हल्दी मिलाये. सोने से पहले सेवन करने से काफी फायदा होता है.

आंवला का महत्व:

आंवला को कौन नहीं जानता है. आयुर्वेद में इसके कई उपचार है. विटामिन- सी और औषधीय गुणों से भरपूर आंवला का सेवन करने से शरीर में होने वाली एलर्जी की परेशानी दूर होती है. पाचन तंत्र मजबूत होने के साथ बीमारियों से लड़ने की शक्ति मिलती है डायबिटीज व ब्लड प्रेशर कंट्रोल करने में अचूक माना जाता है. आंखों की रोशनी बढ़ती है. साथ ही शरीर को सभी उचित तत्व आसानी से मिल जाते हैं. इसको  कच्चा, जूस, मुरब्बा या किसी भी प्रकार से सेवन कर सकते है.