Why rock salt is eaten in Navratri

-सीमा कुमारी 

17 अक्टूबर से नवरात्रि शुरू हो गई है. माँ दुर्गा के अलग अलग रूपों की नौ दिन पूजा की जाती है. इस दौरान माँ दुर्गा का आशीर्वाद पाने के लिए भक्त उपवास भी रखते हैं. व्रत में खाने की बात करें तो इसमें आलू, मूली, कट्टू व सिंघाड़े का आटा आदि का इस्तेमाल किया जाता है. मगर बात हम नमक की करें तो इसमें साधारण की जगह सेंधा नमक को खाया जाता है. लेकिन क्या आप जानते हैं, कि व्रत के दौरान सेंधा नमक का इस्तेमाल क्यों किया जाता है. नहीं जानते है तो चलिए आज हम आपको इसके बारे में बताते हैं.

व्रत में क्यों खाया जाता है सेंधा नमक:

सादा नमक खाने से हमें अनेको प्रकार की बीमारियों होती है और इसे तैयार होने में कई कैमिकल्स प्रोसेस से गुजरना पड़ता है. धार्मिक स्तर पर इसे शुद्ध नहीं मानते है. वहीं सेंधा नमक खारा और आयोडिन कम होने से यह नमक एकदम शुद्ध व हल्का होता है. सेंधा नमक को कई जगहों में पहाड़ी नमक के नाम से भी जाना जाता है. पौष्टिक गुणों से भरपूर होने के कारण सेहत का अच्छे से ख्याल रखते हुए बिना किसी परेशानी के लाभ मिलता है.

सेंधा नमक खाने से सेहत को मिलने वाले फायदे:

  • सेंधा नमक में आयोडिन की मात्रा कम होने से ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है.
  • आंखों के आसपास पड़ी सूजन कम होती है.
  • इसके सेवन से शरीर को सभी उचित तत्व आसानी से मिल जाते हैं.
  • पाचन तंत्र मजबूत होने से पेट से जुड़ी बीमारियों के होने का खतरा कम रहता है.
  • आपका शरीर में दिनभर एनर्जी बनी रहती है.
  • तनाव व थकान कम होने में आपको मदद मिलती है.
  • इसके सेवन से भूख कम लगती है.और में शरीर का मोटापे की परेशानी से भी राहत मिलती है.
  • ब्लड सर्कुलेशन बेहतर तरीके से होने के साथ शरीर में मौजूद विषैले पदार्थों को बाहर निकलते हैं.
  • मांसपेशियों को मजबूती मिलने से जोड़ों व शरीर के अन्य हिस्सों में दर्द से राहत मिलती है.
  • जिन्हे पथरी की समस्या है उन्हें सेंधा नमक में नींबू की कुछ बूंदें मिलाकर सेवन करने से पथरी को गलने में मदद मिलती हैं.