कप्तान रानी रामपाल ने कहा – Corona Warrior के लिए ओलंपिक पदक जीतना चाहती है भारतीय महिला हॉकी टीम

    बेंगलुरू. भारतीय महिला हॉकी टीम की कप्तान रानी रामपाल ने मंगलवार को कहा कि उनकी टीम आगामी ओलंपिक खेलों में ऐतिहासिक पदक जीतने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ेगी और उन्होंने इसे कोविड-19 योद्धाओं को समर्पित किया जो महामारी के समय अपने जीवन को जोखिम में डाल रहे हैं। रानी ने साथ ही बताया कि यहां भारतीय खेल प्राधिकरण (साइ) केंद्र में ट्रेनिंग कर रहे कोर संभावित खिलाड़ियों का इस हफ्ते चयन ट्रायल होगा जिसके बाद तोक्यो खेलों के लिए टीम का चयन किया जाएगा। तोक्यो ओलंपिक 23 जुलाई से शुरू होंगे।

    रानी ने विज्ञप्ति में कहा, ‘‘देश के पुरुषों और महिलाओं जिन्होंने महामारी के दौरान जीवन बचाने के लिए कई बलिदान दिए उनके लिए तोक्यो खेलों में जीतना टीम के लिए शानदार होगा।” उन्होंने कहा, ‘‘यह ओलंपिक अतीत के ओलंपिक की तरह नहीं होंगे। हमारे देश को मुश्किल हालात का सामना करना पड़ा है, हमें अपने डॉक्टरों और फ्रंटलाइन कर्मचारियों पर गर्व है जिन्होंने जीवन बचाने के लिए निस्वार्थ भाव से काम किया है।”

    रानी ने कहा, ‘‘अब जब हम तोक्यो ओलंपिक खेल 2020 में पदक जीतने के लिए कड़ी मेहनत कर रहे हैं तब हम प्रतिज्ञा करते हैं कि हमारे प्रयास और उम्मीद करते हैं कि हमारी जीत डॉक्टरों, नर्सों और चिकित्सा सहायकों को समर्पित होगी जिन्होंने भारत में पिछले साल महामारी के फैलने के बाद से बिना थके काम किया है। उनके कारण हम सभी यहां हैं और सुरक्षित हैं।” पिछले साल राष्ट्रीय लॉकडाउन के दौरान टीम ने आर्थिक रूप से वंचित तबके के 1000 से अधिक परिवारों के लिए कोष जुटाने में मदद की थी। खिलाड़ियों ने 21 दिन के आनलाइन फिटनेस चैलेंज के जरिए 20 लाख रुपये से अधिक जुटाए थे। रानी ने कहा कि तोक्यो ओलंपिक में अब 40 दिन से कम का समय बचा है और ऐसे में वह और टीम के उनके साथी प्रत्येक ट्रेनिंग सत्र का फायदा उठाना चाहती हैं। (एजेंसी)