कोरोना से निपटने 23 हजार करोड़ का पॅकेज, हर जिले में 10 हजार लीटर ऑक्सीजन स्टोरेज की व्यवस्था

    नई दिल्ली: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) की अध्यक्षता में हुई नई कैबिनेट की बैठक (Cabinet Meeting) हुए। इस बैठक में कोरोना वायरस (Corona Virus) से लड़ने के लिए बड़ा निर्णय लिया गया। केंद्र सरकार ने 23 हजार करोड़ रुपये का स्वास्थ्य पॅकेज का ऐलान किया है। इसी के साथ हर जिले में 10 हजार लीटर ऑक्सीजन स्टोरेज की व्यवस्था की जाएगी, जिसे आपातकालीन स्थिति उपयोग किया जाएगा। इस बात की जानकारी केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया (Mansukh Mandaviya) ने आयोजित प्रेस वार्ता में दी। 

    मंडाविया ने बताया, “आज कैबिनेट बैठक में स्वास्थ्य के संदर्भ में महत्वपूर्ण फ़ैसला किया गया। अप्रैल 2020 में कोविड के लिए पहले पैकेज में 15 हज़ार करोड़ रुपए दिए गए। कोविड अस्पताल 163 से बढ़कर 4,389 हो गए। ऑक्सीजन बेडों को 50,000 से बढ़ाकर 4,17,396 कर दिए गए।”

    राज्यों की मदद करना केंद्र का कर्तव्य

    स्वास्थ्य मंत्री मंडाविया ने कहा, ” COVID की दूसरी लहर में हुई समस्याओं से निपटने के लिए 23,000 करोड़ रुपये का पैकेज दिया जाएगा। इसका उपयोग केंद्र और राज्य सरकारें संयुक्त रूप से करेंगी।” उन्होंने कहा, “इस पॅकेज में केंद्र सरकार 15,000 करोड़ रुपए देगी और राज्य सरकारें 8,000 करोड़ रुपए देगी। “

    उन्होंने कहा, “हमें सामूहिक रूप से COVID के खिलाफ लड़ना है। सीमा अवधि अधिकतम (9 महीने) है। हमें इसे जल्दी पूरा करना होगा। राज्य सरकारों को इसे जल्दी करना होगा। राज्य की हर संभव मदद करना हमारा कर्तव्य।”

    हर जिले में बाल चिकित्सा केंद्र 

    तीसरी लहर के संकट हो देखते हुए स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, “736 जिलों में बाल चिकित्सा देखभाल केंद्र बनाए जाएंगे, COVID राहत कोष के तहत 20,000 आईसीयू बेड बनाए जाएंगे।”

    उन्होंने कहा, “हर ज़िले में 10,000 लीटर ऑक्सीजन स्टोरेज की व्यवस्था की जाएगी। हर ज़िले में एक करोड़ रुपए की दवाईयों का बफर स्टॉक किया जाएगा।”