corona
File Photo

नई दिल्ली. देश में कोविड-19 (Covid-19) के 36,595 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमितों की संख्या शुक्रवार को 95.71 लाख के पार चली गई। इनमें से 90 लाख से ज्यादा लोगों के संक्रमण मुक्त होने के साथ ही संक्रमितों के ठीक होने की राष्ट्रीय दर बढ़कर 94.20 फीसदी हो गई। स्वास्थ्य मंत्रालय (Health Ministry) की ओर से सुबह आठ बजे जारी आंकड़ों के अनुसार देश में संक्रमण के 36,595 नए मामले सामने आने के साथ ही संक्रमितों की संख्या बढ़कर 95,71,559 हो गई है। वहीं 540 और लोगों की मौत के बाद मृतकों की संख्या बढ़कर 1,39,188 हो गई है।

देश में अब तक 90,16,289 लोग संक्रमण मुक्त हो चुके हैं और स्वस्थ होने की राष्ट्रीय दर बढ़कर 94.20 फीसदी हो गई। वहीं मृत्यु दर 1.45 फीसदी है। आंकड़ों के अनुसार देश में इस समय 4,16,082 मरीजों का इलाज चल रहा है जो कि कुल मामलों का 4.35 फीसदी है। भारत में सात अगस्त को संक्रमितों की संख्या 20 लाख, 23 अगस्त को 30 लाख और पांच सितम्बर को 40 लाख के पार चली गई थी। वहीं, कुल मामले 16 सितम्बर को 50 लाख, 28 सितम्बर को 60 लाख, 11 अक्टूबर को 70 लाख, 29 अक्टूबर को 80 लाख और 20 नवम्बर को 90 लाख के पार चले गए थे।

भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (Indian Council of Medical Research) ने बताया कि अब तक 14,47,27,749 नमूनों की जांच हो चुकी है, जिनमें से बृहस्पतिवार को 11,70,102 नमूनों का परीक्षण किया गया। पिछले 24 घंटे में 540 मरीजों की मौत हुई है। इनमें से 115 मरीजों की मौत महाराष्ट्र (Maharashtra) में, दिल्ली (Delhi) में 82, पश्चिम बंगाल (West Bengal) में 49, हरियाणा (Haryana) में 32, केरल (Kerala) और उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) में 31-31, छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में 22 और पंजाब (Panjab) तथा राजस्थान (Rajasthan) में 20-20 लोगों की मौत हुई है।

देश में अब तक 1,39,188 लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें से महाराष्ट्र में 47,472, कर्नाटक में 11,821, तमिलनाडु में 11,747, दिल्ली में 9,424, पश्चिम बंगाल में 8,576, उत्तर प्रदेश में 7,848, आंध्र प्रदेश में 7,014, पंजाब में 4,862, गुजरात में 4,031, मध्य प्रदेश में 3,300 लोगों की मौत हुई है। स्वास्थ्य मंत्रालय ने इस बात पर जोर दिया कि मृतकों में से 70 फीसदी से ज्यादा लोग पहले से ही अन्य बीमारियों के शिकार थे। मंत्रालय ने बताया, ‘‘ हमारे आंकड़ों का मिलान भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद के आंकड़ों से किया जा रहा है और राज्यवार आंकड़ें पुष्टि और मिलान का विषय हैं।”(एजेंसी)