MODI

    नयी दिल्ली. जहाँ एक तरफ देश के कई शहरों में फिलहाल पेट्रोल की कीमत (Petrol Price) 110 रुपये/लीटर से भी अधिक हो गई है। वहीं डीजल की कीमत भी अब  (Diesel price) भी 100 रुपये के करीब पहुंच गई है। लेकिन खुश हो जाइए क्योंकि अब जल्दी ही आमजन को पेट्रोल-डीजल की इस उफनती महंगाई से निजात भी मिल सकती है।

    दरअसल ओपेक प्लस (OPEC+) देश अब बाजार में तेल की आपूर्ति बढ़ाने पर सहमत हो चुके हैं। इसके फलस्वरूप अब सप्लाई भी ढ़ेगी और वहीं कच्चे तेल की कीमतों में भी गिरावट आएगी। (Petrol-Diesel will be cheaper soon)

    OPEC+ बढ़ाएगा तेल का उत्पादन :

    बता दें कि ओपेक+ में तेल उत्पादक देशों के संगठन के साथ रूस भी प्रमुखता से शामिल है। अब इसी ग्रुप ने आगामी अगस्त से दिसंबर तक रोजाना 400,000 बैरल तेल का उत्पादन बढ़ाने का एक महत्वपूर्ण फैसला लिया है। इसके साथ ही अब सऊदी अरब, इराक और कुवैत ने पाने प्रॉडक्शन कोटा बढ़ाने पर भी एक सहमति जताई  है। पता हो कि इसके पहले UAE ने अपने लिए ज्यादा कोटे की मांग रखी थी। जिससे चलते उसका सऊदी अरब से कुछ मतभेद भी हो गए थे था। विदित हो कि भारत, चीन, अमेरिका और यूरोप से बढ़ती मांग के बीच UAE ने सप्लाई घटाने तक की धमकी दे डाली थी।

    क्या हैं आज के भाव:

    फिलहाल आज पेट्रोल और डीजल के दामों में कोई भी बदलाव नहीं आया है। जानें 4 महानगरों में तेल के दाम :

    शहर

    पेट्रोल

     

    डीजल

    दिल्ली

    101.84

    89.87

    मुंबई

    107.83

    97.45

    कोलकाता

    102.08

    93.02

    चेन्नई

    102.49

    94.39

     

    मानसून सत्र में मोदी सरकार को घेरने की तैयारी :

    गौरतलब है कि ओपेक+ देशों के बीच यह महत्वपूर्ण डील ऐसे समय हुई है जब देश के नए पेट्रोलियम मिनिस्टर हरदीप सिंह पुरी ने UAE और सऊदी अरब के तेल मंत्रियों से संपर्क भी साधा है और इस तेल की कीमतों को काबू करने के लिए मिलकर काम करने की एक बड़ी पेशकश की है। लेकिन अब इस फैसले के होने से तेल की ज्यादा सप्लाई से देश में पेट्रोल-डीजल की कीमतों और महंगाई में भी बड़ी कमी आएगी। पता हो कि इस ताल के बढ़ते दामों पर आज यानी सोमवार से शुरू हो रहे संसद के मॉनसून सत्र में विपक्ष ने इस मुद्दे पर मोदी सरकार को घेरने की तैयारी भी की है।

    गौरतलब है कि भारत के लिए पहले से ही क्रूड की कॉस्ट 77-78 डॉलर से घटकर 73 डॉलर रह गई है। इससे अब आगामी कुछ  दिनों में पेट्रोल और डीजल की खुदरा कीमतों में भी कमी आने की संभावना है। देश के अधिकांश राज्यों में इस समय पेट्रोल की कीमत 100 रुपये और डीजल की कीमत 90 रुपये से अधिक है। लेकिन ओपेक+ के सप्लाई बढ़ाने के फैसले के बाद इसमें कमी आने की उम्मीद है।