Palghar massacre: The RSS chief asked the question, 'What should the police have done?'

    नई दिल्ली: माइक्रोब्लॉगिंग एप ट्विटर ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ प्रमुख मोहन भागवत सहित सभी आरएसएस नेताओं के ट्विटर अकाउंट को फिर से वेरिफाइड कर दिया है। केंद्र सरक़ार द्वारा नाराजगी जताए जाने पर ट्विटर ने सभी के अकाउंट पर ब्लू टिक बैज वापिस लगा दिया है। इसके पहले उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू के अकाउंट को भी वेरिफाइड कर चूका है।  

    ज्ञात हो कि, शनिवार सुबह ट्विटर ने मोहन भागवत सहित अरुण कुमार, भैयाजी जोशी, कृष्ण गोपाल, सुरेश सोनी के निजी अकाउंट को अन वेरिफाइड कर दिया था।  यानी उनके पेज से ब्लू टिक हटा लिया था। सोशल एप के इस रवैये पर केंद्र सरकार ने कड़ी नाराजगी जताई थी। 

    बढ़ी फ़ॉलोअर्स की संख्या 

    ब्लू टिक हटाने और फिर लगाने के इस विवाद में मोहन भगवत और वेंकैया नायडू को बड़ा फायदा हुआ है। दोनों नेताओं को फॉलो करने वालों लोगों  संख्या में बड़ी वृद्धि हुई है। आरएसएस चीफ मोहन भगवत के ब्लू बैज हटने के बाद जहां 207.9के फ़ॉलोअर्स थे, जबकि ब्लू टिक वापस आने तक यह बढ़ाकर  215.8के हो गया। ठीक उसी तरह उपराष्ट्रपति नायडू के साथ हुआ पहले जहां उनके 1.2 मिलियन फ़ॉलोअर्स थे, वह अब बढ़कर 1.3 मिलियन हो गये। 

    नए नियमों का हवाला देते हुए हटाया था 

    ब्लू टिक हटाने के बाद हुए विवाद पर ट्विटर ने सफाई देते हुए कहा था कि, उसकी नई पालिसी के कारण ब्लू टिक हटाया गया था। नई नियम के अनुसार जो अकाउंट पिछले छह महीने से एक्टिव नहीं है उनके अकाउंट को अनवेरिफाइड किया जारहा है। क्योंकि इस अवधी में उन्होंने कोई एक्टिविटी अकाउंट से नहीं की है। 

    गोरतलब है कि, 2019 में मोहन भगवत ने अपना ट्विटर अकाउंट बनाया था, उसके बाद से लेकर आज तक उन्होंने एक भी ट्वीट उस अकाउंट से नहीं किया है।