दिल्ली हिंसा पर पुलिस हुई सख्त, नौ किसान नेताओं पर FIR की दर्ज

नई दिल्ली: ट्रैक्टर रैली (Tractor Rally) के नाम पर की गई हिंसा (Violence) पर बुधवार को दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने बड़ा कदम उठाया है। पुलिस ने ट्रैक्टर रैली के संबंध में जारी एनओसी के उल्लंघन (NOC Violation) करने के लिए नौ किसान नेताओं के खिलाफ मामला एफआईआर की है। जिसमें दर्शन पाल (Darshan Pal), राजिंदर सिंह (Rajindar Singh), बलबीर सिंह राजेवाल (Balbir Singh Rajewal), बूटा सिंह बुर्जगिल (Buta Singh Burjgil), जोगिंदर सिंह उग्रा (Jogindar Singh Ugra) और राकेश टिकैत (Rakesh Tikat) के नाम शामिल हैं।  

ज्ञात हो कि, ट्रैक्टर रैली के लिए किसान नेताओं और दिल्ली पुलिस के बीच 37 बिंदुओं को लेकर समझौता हुआ था। जिसके बाद पुलिस ने रैली की अनुमति दी थी। लेकिन कल किसान संगठनों ने एक भी बिंदु को नहीं माना जिसकी वजह से पूरी दिल्ली हिंसा की भेट चढ़ गई और उपद्रवियों द्वारा लाल किले पर एक धर्म विशेष का झंडा लगा दिया।

आईटीओ में हुई हिंसा का उल्लेख 

आईटीओ में हुई हिंसा मामले पर दर्ज एफ़आईआर में पुलिस ने घटना का उल्लेख किया है। जिसमें इसमें उल्लेख किया गया है कि किसान मध्य दिल्ली की ओर आने लगे। इस दौरान उनसे कानून और व्यवस्था बनाए रखने के निरंतर अनुरोध किए गए। साथ ही ट्रैक्टर पलटने से किसान की हुई मौत का भी उल्लेख किया है।

पुलिस वालों को मरने की गई कोशिश 

प्राथमिकी में कहा गया है कि पुलिस और अन्य लोगों ने उन्हें हटाना शुरू कर दिया, लेकिन प्रदर्शनकारी किसान ट्रैक्टरों के साथ वहां आए और पुलिस अधिकारियों को मारने का प्रयास किया। पुलिस सावधानीपूर्वक मौके से हट गई और बाद में उन्हें पता चला कि किसान ने दम तोड़ दिया।