एम्स निदेशक ने जताई उम्मीद, जनवरी तक वैक्सीन की जल्द आपूर्ति मिलने की उम्मीद

नई दिल्ली: देश में कोरोना वायरस (Corona Virus) के मामले लगातार बढ़ रहे हैं. वहीं दूसरी ओर कोरोना वैक्सीन (Corona Vaccine) परीक्षण तीसरे चरण में पहुँच गए है. इसी बीच देश की सबसे बड़ी अस्पताल अखिल भारतीय चिकित्सा संस्थान (All India Institute of Medical Science) के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया (Dr. Randeep Guleria) ने गुरुवार को कहा, “अब हमारे पास टीके हैं जो उनके अंतिम परीक्षण चरण में हैं. उम्मीद है कि इस महीने के अंत तक या अगले महीने की शुरुआत में हमें भारतीय नियामक अधिकारियों से आपातकालीन उपयोग प्राधिकरण प्राप्त करना चाहिए ताकि जनता को वैक्सीन देना शुरू किया जा सके.”

वैक्सीन सुरक्षित का पर्याप्त डाटा

गुलेरिया ने कहा, “ये अच्छी खबर है कि एक वैक्सीन को इतने कम समय में मंजूरी मिल गई है. भारत में वैक्सीन अपने तीसरे चरण में हैं.” उन्होंने कहा, “इस बात का पर्याप्त डाटा है कि वैक्सीन सुरक्षित है. करीब 70,000-80,000 लोगों को वैक्सीन दी गई है. अब तक वैक्सीन का कोई गंभीर विपरीत असर नहीं हुआ है. वैक्सीन से मृत्युदर में कमी आएगी और बड़ी आबादी को वैक्सीन लगाने से हम वायरस के प्रसार की चेन को तोड़ पाएंगे.”

अधिक संख्या में टीका लगने पर थोडा प्रभाव संभव 

डॉ. रणदीप ने कहा, “चेन्नई परीक्षण के दौरान टीके के प्रभाव पर एम्स निदेशक ने कहा, “चेन्नई परीक्षण का मामला वैक्सीन से संबंधित होने के बजाय एक आकस्मिक खोज है. जब हम बड़ी संख्या में लोगों को टीका लगाते हैं, तो उनमें से कुछ को कोई न कोई बीमारी हो सकती है, जो टीके से संबंधित नहीं हो सकती.”

सही व्यवहार पर तीन महीने के अंदर कोरोना पर नियंत्रण 

उन्होंने आगे कहा, “हमने वर्तमान कोरोना प्रसार में गिरावट देखी है और मुझे आशा है कि यह जारी रहेगा यदि हम एक अच्छा #COVID19 उपयुक्त व्यवहार करने में सक्षम रहते हैं. यदि हम अगले 3 महीनों के लिए इस व्यवहार का प्रबंधन करते हैं, तो हम एक महामारी से संबंधित एक बड़ा परिवर्तन होने के करीब हैं.”

टीकाकरण वितरण योजना के लिए युद्ध स्तर पर काम शुरू 

डॉ. रणदीप ने कहा, “कोल्ड चेन बनाए रखने, उपयुक्त स्टोरहाउस उपलब्ध होने, रणनीति विकसित करने, टीकाकरण और सीरिंज की उपलब्धता के संदर्भ में केंद्र और राज्य स्तर पर टीकाकरण वितरण योजना के लिए युद्ध स्तर पर काम चल रहा है.”

शुरुआत में सभी को टिका पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध नहीं 

वैक्सीन सभी के लिए उपलब्ध होने पर एम्स निदेशक ने कहा, “शुरुआत में, टीका सभी को देने के लिए पर्याप्त मात्रा में उपलब्ध नहीं होगा. हमें यह देखने के लिए एक प्राथमिकता सूची की आवश्यकता है कि हम उन लोगों का टीकाकरण करें जिनके पास कोविड के कारण मरने की संभावना अधिक है. बुजुर्गों, कॉमरेडिटीज और फ्रंट लाइन वर्कर्स वाले लोगों को टीका लगाया जाना चाहिए.”