Ministry of Earth Sciences expressed apprehension of a cyclone in the Bay of Bengal and hitting the eastern coast
Representative Image

    नयी दिल्ली. कोरोना की भारी महामारी के बीच अब अरब सागर में उठ रहे चक्रवात ‘तौकते’ (Cyclone Tauktae) से निपटने की तैयारी जोर्शोरों से हो रही है। बता दें कि तूफान ‘तौकते’ को लेकर महाराष्ट्र-गुजरात से लेकर कर्नाटक-तमिलनाडु में भी अलर्ट जारी कर दिया गया है। बीते शुक्रवार को ही भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) (IMD) ने कहा था कि अरब सागर में बने दबाव के क्षेत्र के 17 मई को ‘‘अत्यंत भीषण चक्रवाती तूफान” में तब्दील होने और एक दिन बाद यानी आज शनिवार को इसके गुजरात तट को पार करने की संभावना है। 

    दरअसल मौसम स्थिति गहरे दबाव के क्षेत्र में तब्दील हो गई है और इसके चलते आज शनिवार सुबह तक चक्रवाती तूफान ‘तौकते’ (Cyclone Tauktae) में तब्दील होने की संभावना है। फिर इसके देर शनिवार रात तक अत्यंत भीषण चक्रवाती तूफान में तब्दील होने की संभावना है। आईएमडी के चक्रवात चेतावनी प्रभाग ने कहा कि 16-19 मई के बीच पूरी संभावना है कि यह 150-160 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार वाली हवाओं के साथ एक ‘‘अत्यंत भीषण चक्रवाती तूफान” में तब्दील होगा। हवाओं की रफ्तार बीच-बीच में 175 किलोमीटर प्रति घंटा भी हो सकती है।

    इतना ही नहीं मौसम विभाग ने पश्चिमी तटीय राज्य को सतर्क किया है। इसने कहा है कि लक्षद्वीप में 15 मई को कहीं-कहीं अत्यंत भारी बारिश होगी तथा 16 मई को कहीं-कहीं भारी बारिश होगी। 15 मई को कुछ स्थानों पर भारी से अत्यंत भारी तथा कुछ स्थानों पर 16-17 मई को भारी से अत्यंत भारी बारिश होने की संभावना है।

    इधर महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में चक्रवाती तूफान ‘तौकते’ की चेतावनी के मद्देनजर बृहन्मुंबई महानगरपालिका के अधिकारियों ने कोविड-19 टीकाकरण अभियान को अगले दो दिन के लिए स्थगित करने का फैसला किया है। बृहन्मुंबई महानगर पालिका ने शुक्रवार को ट्वीट कर यह जानकारी दी, जिसके मुताबिक मुंबई में 15 और 16 मई को टीकाकरण अभियान स्थगित रहेगा। 

    इसके साथ ही कर्नाटक (तटीय एवं आसपास के जिलों) में 15 मई को अधिकतर स्थानों पर हल्की से मध्यम तथा कुछ स्थानों पर भारी से अत्यंत भारी तथा 16 मई को कुछ स्थानों पर भारी बारिश होने की संभावना है। कोंकण और गोवा में 15-16 मई को भारी से अत्यंत भारी बारिश होने की संभावना है। आईएमडी ने कहा कि गुजरात में सौराष्ट्र क्षेत्र के तटीय जिलों में 16 मई से बारिश होने की संभावना है तथा 17 मई को भारी से अत्यंत भारी बारिश हो सकती है।

    वहीं, 18 मई को सौराष्ट्र और कच्छ में कुछ जगहों पर भारी से अत्यंत भारी तथा किसी-किसी स्थान पर अत्यंत भारी बारिश होने की संभावना है। तूफान को ‘तौकते’ नाम म्यांमा ने दिया है जिसका मतलब ‘छिपकली’ होता है। इस साल भारतीय तट पर यह पहला चक्रवाती तूफान होगा।

    इस चक्रवात ‘तौकते’ से सम्हालने और निपटने  हेतु अब राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (NDRF) ने 53 दलों को तैयार किया है। NDRF के महानिदेशक एस।एन प्रधान ने बीते शुक्रवार को ट्वीट किया था कि केरल, कर्नाटक, तमिलनाडु, गुजरात और महाराष्ट्र के तटीय क्षेत्रों में इन दलों को फिलहाल तैनात किया जा रहा है।

    उन्होंने यह भी बताया था कि इन 53 दलों में से 24 दलों को पहले ही यहाँ तैनात कर दिया गया है जबकि शेष को तैयार रहने को भी कहा गया है। बता दें कि NDRF के एक दल में करीब 40 कर्मी होते हैं और उनके पास पेड़ और खंभे काटने के औजार, नौकाएं, मूलभूत दवाएं और अन्य राहत एवं बचाव सामान भी होता है, जिससे वे चक्रवात जैसी स्तिथि से निपटने के लिए तैयार होते हैं।