TAUKTAE

    नयी  दिल्ली. जहाँ देश (India) में फिलहाल कोरोना (Corona) की दूसरी लहर से हाहाकार मचा हुआ है। वहीं अब इस भयंकर महामारी के बीच अरब सागर में उठ रहे चक्रवात ‘तौकते’ (Cyclone Tauktae) से निपटने की तैयारी भी पुरजोर चल रही है। इसके तहत अब तूफान ‘तौकते’ के चलते महाराष्ट्र-गुजरात (Maharashtra, Gujrat) से लेकर कर्नाटक-तमिलनाडु (Karnatka,TamilNadu) में भी हाई अलर्ट जारी कर दिया गया है। वहीं भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) और इन तटीय राज्यों द्वारा जारी किए कुछ परामर्शों के अनुसार दक्षिण अरब सागर और लक्षद्वीप इलाके में बीते गुरुवार को ही दबाव का क्षेत्र बन गया है। 

    क्या है IMD की रिपोर्ट :

    इसके साथ ही IMD ने अपनी चेतावनी रिपोर्ट में कहा था कि, यह शनिवार सुबह तक इसी क्षेत्र में गहरे दबाव के क्षेत्र में बदल जाएगा और उसके बाद अगले 24 घंटों में यानी आज रविवार तक चक्रवाती तूफान का रूप ले लेगा। इसी के चलते पश्चिम रेलवे ने गुजरात के तटीय इलाके में 17 और 18 मई को आने-जाने वालीं 56 ट्रेनों को रद्द कर दिया है या फिर उन्हें गंतव्य के पहले ही समाप्त करने का फैसला ले लिया है।

    गौरतलब है कि चक्रवात ‘तौकते’ उत्तर-उत्तरपश्चिम गुजरात और पाकिस्तानी तटों की ओर भी बढ़ने की संभावना है। IMD के अनुसार यह 18 मई की शाम तक गुजरात तट के नजदीक पहुंच सकता है। आपको बता दें कि इस चक्रवात को ‘तौकते’ नाम म्यांमा ने दिया है। यह भारतीय तट पर आने वाला इस साल का पहला चक्रवाती तूफान होगा। 

    महाराष्ट्र में हाई अलर्ट :

    इधर महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई में चक्रवाती तूफान ‘तौकते’ की चेतावनी के मद्देनजर बृहन्मुंबई महानगरपालिका के अधिकारियों ने कोरोना टीकाकरण अभियान को अगले दो दिन के लिए स्थगित करने का फैसला किया है। वहीं केरल के कोच्चि शहर समेत कई इलाकों में शुक्रवार को भारी बारिश (Kerala Heavy Rainfall) और जलजमाव हुआ।

    समुद्र में भी अब ऊंची लहरें उठीं और मछुआरों को समुद्र में न जाने की सलाह दी गई थी। इसके साथ ही भारी बारिश से सामान्य जनजीवन ठप हो गया है। चेल्लानम, कन्नामाली, मानेसरी समेत कई इलाकों में घरों में पानी घुस गया जिससे लोगों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ा है।

    गौरतलब है कि केरल में भारी बारिश के चलते पानी छोड़ने के लिए एर्नाकुलम डिस्ट्रिक्‍ट में Bhoothathankettu बांध के चार द्वार खोलने पड़े हैं। वहींमौसम विभाग के अनुसार, लक्षद्वीप और उससे सटे दक्षिण पूर्ण अरब पर गहरे कम दबाव का क्षेत्र बना है, यह 15 मई, शनिवार को चक्रवाती तूफान ताउ ते का रूप ले सकता है।

    केरल में मूसलाधार बारिश :

    बता दें कि तूफान की वजह से केरल में मूसलाधार बारिश हो रही है। जिसके वजह से सैकड़ो माकन क्षतिग्रस्त हो गए, वहीं पेड़ उखड गए जिसके कारण हजारों घरों की बत्ती घंटो तक गुल रही। उठ रही तेज समुंद्री लहर के वजह से जनजीवन पूरी तरह बाधित हो गया है। वहीं मौसम विभाग ने राज्य के पांच जिलों मलप्पुरम, कोझीकोड, वायनाड, कन्नूर और कासरगोड में अत्यधिक भारी बारिश की आशंका के साथ ‘रेड अलर्ट’ जारी किया है। 

    PM ने ली आपात बैठक :

    विदित हो कि अरब सागर (Arabian Sea) में उठे तूफान को देखते हुए बीते शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने शअधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की थी । बैठक के दौरान प्रधानमंत्री से तूफान से प्रभावित सभी तटीय क्षेत्रों में हर सुरक्षा सुनिश्चित करने का आदेश दिया था। इसी के साथ उन्होंने बिजली, दूरसंचार, स्वास्थ्य, पेयजल जैसी मूलभूत सुविधाएं दुरुद्त कराये जाने का भी आदेश दिया गया है ।

    NDRF मुस्तैद :

    इसके साथ ही राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (NDRF) ने अरब सागर में बन रहे चक्रवात ‘तौकते’ से निपटने के लिए 53 दलों को तैयार किया है। जिनकी तैनाती पांच राज्यों केरल, कर्नाटक, तमिलनाडु, गुजरात और महाराष्ट्र में की जा रही है। इनमें से तीसरी बटालियन मुंडुली, भुवनेश्वर से एनडीआरएफ की 5 टीमें चक्रवात तौकते के मद्देनजर आपातकालीन राहत कार्यों के लिए गुजरात रवाना हो चुकी है।