Amit Shah

नई दिल्ली: कृषि कानूनों (Agriculture Bill) को लेकर पिछले तीन दिन से किसान आंदोलन कर रहे हैं. वहीं किसान आंदोलन को बढ़ते देख खुद गृहमंत्री अमित शाह ने मोर्चा संभाल लिया है. शनिवार को उन्होंने कहा कि, “जो किसान भाई (Farmer Brothers) अपना आंदोलन (Protest) कर रहे हैं, उन सभी से मैं अपील करना चाहता हूं कि भारत सरकार (Indian Government) आपसे चर्चा के लिए तैयार है. 3 दिसंबर को चर्चा के लिए आपको कृषि मंत्री जी ने निमंत्रण पत्र भेजा है. भारत सरकार आपकी हर समस्या और हर मांग पर विचार विमर्श करने के लिए तैयार है.”

 निश्चित किए गए स्थान पर धरणा-प्रदर्शन करे 

अमित शाह ने कहा, “अलग-अलग जगह नेशनल और स्टेट हाइवे पर किसान भाई अपने ट्रैक्टर-ट्रॉली के साथ इतनी ठंड में खुले में बैठे हैं, इन सब से मैं अपील करता हूं कि दिल्ली पुलिस आपको एक बड़े मैदान में स्थानांतरित करने के लिए तैयार है, जहां आपको सुरक्षा व्यवस्था और सुविधाएं मिलेंगी.”

उन्होंने कहा,”अगर आप रोड की जगह निश्चित किए गए स्थान पर अपना धरणा-प्रदर्शन शांतिपूर्ण ढ़ंग से, लोकतांत्रिक तरीके से करते हैं तो इससे किसानों की भी परेशानी कम होगी और आवाजाही कर रही आम जनता की भी परेशानी कम होगी.”

3 दिसंबर से पहले बात होगी  

गृहमंत्री ने कहा, “अगर किसान चाहते हैं कि भारत सरकार जल्द बात करे, 3 दिसंबर से पहले बात करे, तो मेरा आपको आश्वासन है कि जैसी ही आप निर्धारित स्थान पर स्थानांतरित हो जाते हैं, उसके दूसरे ही दिन भारत सरकार आपकी समस्याओं और मांगों पर बातचीत के लिए तैयार है.”

बिना किसी शर्त बातचीत की पेशकश करनी चाहिए

गृह मंत्री की अपील पर किसानों ने अपनी प्रतिक्रिया दी है. भारतीय किसान यूनियन के पंजाब अध्यक्ष जगजीत सिंह ने कहा, “अमित शाह जी ने एक शर्त पर जल्दी मिलने का आह्वान किया है, यह अच्छा नहीं है. उन्हें बिना किसी शर्त के खुले दिल से बातचीत की पेशकश करनी चाहिए. हम अपना निर्णय लेने के लिए कल सुबह बैठक करेंगे.”

ज्ञात हो पिछले तीन दिनों से किसान आंदोलन शुरू है. किसान हरियाणा-दिल्ली के संधू सीमा पर बैठे हुए है. किसान अपनी मांग मनवाएं बिना पीछे हटने को तैयार नहीं है. इसी  हुए सरकार ने बुराड़ी में स्थित एक मैदान में आंदोलन करने की इजाज़त दे दी है. लेकिन किसान सिंधु सीमा पर ही बैठे हुए हैं.