anurag thakur
File Pic

    नई दिल्ली: पिछले दिनों जारी किए जीडीपी आकड़ो (GDP Rate) पर राजनीति तेज होती जारी है। कांग्रेस (Congress) लगातार इसको लेकर केंद्र सरकार पर हमला बोल रही है। पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री पी. चिदंबरम (P. Chidambram) ने मोदी सरकार (Modi Government) पर भारत की अर्थव्यवस्था (Indian Economy) को बर्बाद करने का आरोप लगाया था। कांग्रेस नेता के इस आरोप पर केंद्रीय वित्त राज्य मंत्री अनुराग ठाकुर (MoS Anurag Thakur) ने पलटवार किया है। उन्होंने कहा कि, “आपदा समय में राजनीति करना कांग्रेस की आदत है।”

    अनुराग ठाकुर ने कहा, “ठाकुर ने कहा, “लगातार सुधारों और मजबूत बुनियादी बातों ने सुनिश्चित किया कि भारत में वित्त वर्ष 2020-21 की पहली तिमाही में 24.4% के संकुचन से वित्त वर्ष 2020-21 की चौथी तिमाही में 1.6% की वृद्धि हुई है।” 

    उन्होंने कहा, “मुझे आश्चर्य नहीं है कि पूर्व वित्त मंत्री ने कठिन डेटा को अनदेखा करना चुना और इसके बजाय ‘क्या बात है- कांग्रेस नेतृत्व ने वर्षों से अनजान दृष्टिकोण को अपनाया है।”

    दो अंकों की विकास दर केवल भारत की 

    अर्थव्यवस्था पर बोलते हुए केंद्रीय राज्यमंत्री ने कहा, “जब आप भारतीय उद्यमियों, छोटे व्यवसायों और एमएसएमई को खुद को पुनर्जीवित करने के लिए लचीलापन पर संदेह करते हैं; विभिन्न अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों ने भारत को वित्त वर्ष 2021-22 में 12.5% बढ़ने का अनुमान लगाया है, जिससे हम अनुमानित दो अंकों की विकास दर वाली एकमात्र प्रमुख अर्थव्यवस्था बन गए हैं।”

    चौथी तिमाही में जीडीपी में वृद्धि 

    केंद्रीय मंत्री ठाकुर ने कहा, “नवीनतम जीडीपी डेटा से पता चलता है कि जनवरी-मार्च 2021 तिमाही में विनिर्माण क्षेत्र में 6.9% की वृद्धि हुई, निर्माण में 14.5% की वृद्धि हुई, स्टील और सीमेंट में 27.3% और 32.7% की वृद्धि हुई (मार्च 21)। चूंकि यह वृद्धि मार्च ’20 की पूर्व-लॉकडाउन अवधि के ऊपर और ऊपर है। 2 क्षेत्रों में अप्रैल 2021 में 400% और 549% की वृद्धि हुई।”

    ज्ञात  हो कि, मंगलवार को कांग्रेस के वरिष्ठ नेता चिदंबरम ने आए जीडीपी के आकड़ो पर मोदी सरकार पर हमला बोला था। उन्होंने कहा कि, ” 2020-21 में जीडीपी 2018-19 में जीडीपी से कम है। 2020-21 चार दशकों में अर्थव्यवस्था का सबसे काला साल रहा है। 2020-21 की चार तिमाहियों में प्रदर्शन कहानी कहता है।” उन्होंने आगे कह कि, “अर्थव्यवस्था की वर्तमान स्थिति निस्संदेह महामारी के प्रभाव के कारण है, लेकिन यह भाजपा के नेतृत्व वाली एनडीए सरकार की अक्षमता और अक्षम आर्थिक प्रबंधन से जटिल हो गई है।”