Vishwa-Hindu Parishad plans to make Bhumi Pujan program grand on August 5

लखनऊ. सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या में राम मंदिर बनाने का निर्णय देने के बाद अब जल्द ही यहा राम मंदिर निर्माण कार्य को वास्तव में शुरुवात हो रही है. श्री राम जन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ सदस्य और मनिराम दास

लखनऊ. सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या में राम मंदिर बनाने का निर्णय देने के बाद अब जल्द ही यहा राम मंदिर निर्माण कार्य को वास्तव में शुरुवात हो रही है. श्री राम जन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ सदस्य और मनिराम दास छावनी के महंत कमल नयन दास ने बताया कि, मंदिर निर्माण की पूरी तैयारी आखरी चरण में है और इस रामनवमी से राम मंदिर निर्माण कार्य की शुरुवात होगी.

उन्होंने यह भी कहा कि, विश्व हिन्दू परिषद के प्रस्तावित मॉडल से ही मंदिर का निर्माण होगा.

शुरुआत में ट्रस्ट वरिष्ठ अधिवक्ता के. परासरण के आवास से कार्य करेगा, लेकिन बाद में इसका स्थायी कार्यालय खोला जाएगा. कानून विशेषज्ञ केशवन अय्यंगार पसारन न्यास में होंगे. इस न्यास में विश्वगुरु शंकराचार्य, विश्वगुरु माधवानंद स्वामी, युगपुरुष परमानंद महाराज शामिल है. इनके आलावा पुणे के गोविंददेव गिरि, अयोध्या से डॉक्टर अनिल मिश्रा, कामेश्वर चौपाल और निर्मोही अखाडा के धीरेंद्र दास यह भी ट्रस्ट के सदस्यों में शामिल है.

बतादें कि, कुछ दिन पहले प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राम मंदिर निर्माण के लिए ट्रस्ट स्थापना की लोकसभा में घोषणा की थी. उन्होंने कहा कि, यह ट्रस्ट ‘राम जन्मभूमि तीर्थक्षेत्र’ इस नाम से है. इसमें दलित समाज के एक व्यक्ति के साथ 15 सदस्य होंगे. इन सदस्यों में 9 सदस्य स्थायी और 6 सदस्य नामांकित रहेंगे.