bharat-bandh

    नई दिल्ली: देश में पेट्रोल-डीजल (Petrol- Diesel) की बढ़ती कीमत और जीएसटी (GST) के मौजूदा दरों के विरोध में व्यापारी संगठनों (Merchant organizations) ने आज शुक्रवार को भारत बंद (Bharat Bandh) बुलाया है। कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स के ऐलान के अनुसार इस दिन पूरे देश भर के व्यवसाहिक प्रतिष्ठान बंद रहेंगे। इस बंद को संयुक्त किसान मोर्चा (Sanyukt Kisan Morcha), ऑल इंडिया ट्रांसपोर्ट वेलफेयर एसोसिएशन (All India Transport Welfare Association) ने अपना समर्थन दिया है। 

    आठ करोड़ लोग होंगे शामिल

    व्यापारिक संगठन कैट ने दावा किया है कि इस संगठन में करीब आठ करोड़ लोग शामिल होंगे। संगठन ने महासचिव प्रवीन खंडेलवाल ने कहा कि सभी राज्यों के 1,500 बड़े और छोटे संगठन जीएसटी संशोधन के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन करेंगे।” उन्होंने कहा, “इस दौरान हर शहर में अलग अलग तरह से आंदोलन और विरोध प्रदर्शन किया जाएगा।”

    जीएसटी के प्रावधानों को सरल करने की जरुरत

    कैट ने कहा कि, “हमारे साथ करीब 40 हजार से संगठनों ने इस बंद का समर्थन किया है।” उन्होंने कहा, “सरकार को जीएसटी के प्रावधान को बेहद सरल और लचीला बनाने की जरुरत है, जिससे छोटा से छोटा व्यापारी इसको समझ सके।” 

    बंद को लेकर व्यापारी संगठन बंटे

    कैट के बुलाएभारत बंद को लेकर व्यापारी बंटे नजर आ रहे हैं।  एक ओर जहां ऑल इंडिया ट्रांसपोर्ट वेलफेयर एसोसिएशन और  हॉकरों के राष्ट्रीय संगठन हॉकर्स संयुक्त कार्रवाई समिति ने भी बंद का समर्थन किया है। वहीं अन्य व्यापारी संगठनों मसलन फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया व्यापार मंडल और भारतीय उद्योग व्यापार मंडल ने कहा कि वे बंद का समर्थन नहीं कर रहे हैं।

    हमारा बंद को समर्थन नहीं

    फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया व्यापार मंडल के राष्ट्रीय महासचिव वी के बंसल ने कहा कि कुछ मांगों के समर्थन में हम दुकानें बंद करने के पक्ष में नहीं हैं। हालांकि, हमारा मानना है कि पिछले 43 माह के दौरान जीएसटी अपने मूल उद्देश्य से भटक गया है। भारतीय उद्योग व्यापार मंडल दिल्ली के महासचिव राकेश यादव ने कहा कि हम बंद का समर्थन नहीं कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि उनके संगठन ने सरकार को जीएसटी से संबंधित मुद्दों पर ज्ञापन दिया है।

    बंद को है इनका समर्थन 

    भारत बंद को ऑल इंडिया एफएमसीज़ी डिस्ट्रिब्युटर्स फेडरेशन, फेडेरेशन ऑफ एल्युमिनियम यूटेंसिल मैन्यूफैकचर एंड ट्रेडर्स एसोसिएशन, नार्थ इंडिया स्पाईसेस ट्रेडर्स एसोसिएशन, आल इंडिया वूमेन एंटरप्रेन्योर्स एसोसिएशन, ऑल इंडिया कम्प्यूटर डीलर एसोसिएशन, आल इंडिया कॉस्मेटिक मैनुफक्चरर्स एसोसिएशन आदि शामिल हैं