abohar

    चंडीगढ़. पंजाब के कई भाजपा नेताओं ने पार्टी के अबोहर (Abohar) के विधायक पर मुक्तसर में हुए हमले के खिलाफ रविवार को मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह (Arminder Singh) के आवास के बाहर विरोध प्रदर्शन किया। भाजपा विधायक अरुण नारंग को शनिवार को प्रदर्शनकारी किसानों के एक समूह ने घेर लिया था और उनके साथ कथित तौर पर मारपीट की तथा उनके कपड़े फाड़ दिए। रविवार सुबह पंजाब के राज्यपाल के साथ बैठक के बाद भाजपा नेता पार्टी के प्रदेश प्रमुख अश्विनी शर्मा के नेतृत्व में मुख्यमंत्री के आवास की ओर बढ़े। इस दौरान कुछ विधायकों ने विरोध के तौर पर अपनी कमीज भी उतार दी।

    प्रदर्शनकारियों ने राज्य में कांग्रेस नीत सरकार के खिलाफ नारे लगाते हुए आरोप लगाया कि राज्य में कानून-व्यवस्था पूरी तरह चौपट है। शर्मा ने इस घटना की निंदा करते हुए कहा, ‘‘ क्या विपक्षी पार्टी (भाजपा) को अपना विचार रखने का अधिकार नहीं है।” मुक्तसर की घटना का हवाला देते हुए उन्होंने कहा, ‘‘ भाजपा की आवाज को दबाया नहीं जा सकता है। हमने कभी भी लोकतंत्र को इस तरह शर्मसार करते हुए नहीं देखा। अरुण नारंग की क्या गलती थी? वह राज्य सरकार की विफलताओं को उजागर करने वहां गए थे।” भाजपा नेता तीक्ष्ण सूद ने अमरिंदर सिंह से इस्तीफे की मांग की।

    सूद ने कहा, ‘‘ भाजपा नेताओं को निशाना बनाया जा रहा है। राज्य में कहीं लोकतंत्र नहीं है। हम मुख्यमंत्री से यह कहने के लिए आए हैं कि वह राज्य चलाने में सक्षम नहीं हैं और उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए।” मुख्यमंत्री ने शनिवार को नारंग पर हुए हमले की कड़ी निंदा करते हुए कहा था कि राज्य में शांति भंग करने की कोशिश में लगे तत्वों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। पंजाब में भाजपा नेता केंद्र सरकार के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों के गुस्से का सामना कर रहे हैं। इससे पहले भी प्रदर्शन कर रहे किसानों ने भाजपा नेताओं के कार्यक्रमों को बाधित किया है।