RAMESH-BALCHANDRA

    बेंगलुरु. भाजपा विधायक बालचंद्र जारकीहोली (Balchandra Jarkiholi) ने अपने भाई एवं कर्नाटक (Karnatka) के जलसंसाधन मंत्री रमेश जारकीहोली (Ramesh Jarkiholi) के खिलाफ यौन उत्पीड़न (Sexual Harresment) के आरोपों की सीबीआई (CBI) जांच कराए जाने की बुधवार को मांग की और ‘‘फर्जी सीडी” जारी करने वाले के खिलाफ 100 करोड़ रुपए का मानहानि का मुकदमा दायर करने की धमकी भी दी।

    बालचंद्र ने मुख्यमंत्री बी एस येदियुरप्पा से मुलाकात के बाद कहा कि यदि रमेश जारकीहोली ने कुछ गलत नहीं किया है, तो उन्हें इस्तीफा नहीं देना चाहिए और आपत्तिजनक वीडियो वाली सीडी जारी करने के पीछे जो लोग हैं, उनका पता लगाने के लिए जांच की जानी चाहिए। इस कथित वीडियो क्लिप में रमेश किसी अज्ञात महिला के साथ अंतरंग होते दिख रहे हैं।

    इन क्लिप को कन्नड़ समाचार चैनलों में प्रसारित किया गया था। बालचंद्र ने कहा, ‘‘जिस महिला के साथ अन्याय होने का दावा किया जा रहा है, उसकी पहचान नहीं पता है। किसी ने यह दावा करते हुए शिकायत की कि महिला के रिश्तेदारों ने ऐसा करने को कहा। इस शिकायत को दर्ज करना ही गलत है, क्योंकि पीड़ित व्यक्ति को शिकायत करनी चाहिए, न कि सड़क पर चल रहे किसी भी व्यक्ति को ऐसा करना चाहिए।”

    उन्होंने येदियुरप्पा से मुलाकात के बाद संवाददाताओं से कहा कि उन्होंने मुख्यमंत्री से सीबीआई या सीआईडी की जांच के आदेश देने का अनुरोध किया है ताकि यह पता लगाया जा सके कि इस सीडी को जारी किसने किया है और कौन प्रभावशाली नेता उनके पीछे हैं। बालचंद्र ने कहा, ‘‘यदि यह साबित होता है कि रमेश जारकीहोली गलत है, तो मैं उन्हें लोगों से माफी मांगने और राजनीति से संन्यास लेने की सलाह दूंगा। यदि उन्होंने कुछ गलत नहीं किया है, तो इसके (सीडी और आरोपों के) पीछे जिन लोगों का हाथ है, उन्हें जेल भेजा जाना चाहिए। जांच होनी ही चाहिए और इसलिए मैंने मुख्यमंत्री से मुलाकात की।”

    उन्होंने कहा कि रमेश भी शहर में हैं और वह भी दिन में बाद में मुख्यमंत्री से मुलाकात करेंगे। सामाजिक कार्यकर्ता दिनेश कल्लाहल्ली ने मंगलवार को रमेश के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई थी कि उन्होंने नौकरी पाने की एक इच्छुक महिला का कथित रूप से यौन उत्पीड़न किया और इस बारे में कुछ भी बताने पर उसे एवं उसके परिवार को गंभीर परिणाम भुगतने की धमकी दी। रमेश ने मंगलवार रात को आरोपों पर प्रतिक्रिया देते हुए संवाददाताओं से कहा था कि वह ‘सकते’ में हैं और वीडियो शत प्रतिशत फर्जी है।

    उन्होंने मामले की जांच की मांग की। बालचंद्र ने कहा कि वह वकीलों से विचार-विमर्श कर रहे हैं और सीडी जारी करने वालों के खिलाफ 100 करोड़ रुपए का मानहानि का मुकदमा दर्ज कराया जाएगा। उन्होंने कहा, ‘‘हमें जानकारी मिली है कि वीडियो विदेश से (इंटरनेट पर) अपलोड की गई, इसलिए सीबीआई से मामले की जांच कराई जानी चाहिए। यदि इस प्रकार की फर्जी सीडी आती रहेंगी, तो राजनीति करना मुश्किल हो जाएगा।” बृहस्पतिवार से शुरू हो रहे राज्य के बजट सत्र से पहले इस प्रकार के आरोप लगने के कारण बी एस येदियुरप्पा नीत भाजपा सरकार को काफी शर्मिंदगी उठानी पड़ रही है। पहले कांग्रेस में शामिल रहे रमेश कांग्रेस-जद(एस) गठबंधन सरकार को गिराने में अहम भूमिका निभाने वाले विधायकों में शामिल थे, जिसके बाद भाजपा राज्य में सत्ता में आई।