भाजपा का ममता सरकार पर आरोप, कहा- कार्यकर्ताओं पर केमिकल मिला पानी डाला गया

नई दिल्ली: भारतीय जनता पार्टी (Bhartiya Janta party) ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बैनर्जी (Mamta Banerjee) पर बड़ा आरोप लगाया है. गुरुवार को भाजपा मुख्यालय में आयोजित पड़ा वार्ता में केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद (Ravishankar Prasad) ने कहा, “ममता सरकार लाठी और पुलिस से दमन के बल पर दमन कर रही है. हमारे कार्यकर्ताओं पर केमिकल से मिले पानी डाला गया है. जिसके वजह से कई कार्यकर्ता बीमार हो गए हैं.” 

ज्ञात हो कि पश्चिम बंगाल में कार्यकर्ताओं की हत्या को लेकर भाजपा ने ‘नबन्ना की ओर मार्च’ आंदोलन बुलाया था. राज्य सचिवालय का घेराव करने के लिए कोलकाता के चार को नो से रैली निकली गई थी. इस दौरान भाजपा नेताओं और पुलिस के बीच झड़प भी हुई. पुलिस ने लोगों को हटाने और तीतर बितर करने के लिए पानी और असू गैस के गोले भी फेंके गए. इस दौरान कई कार्यकर्ता घायल हुए. 

1500 कार्यकर्ता घायल  
रविशंकर प्रसाद ने कहा, “पार्टी द्वारा बताया गया कि अब तक 115 भाजपा कायकर्ता बंगाल में राजनीतिक हिंसा का शिकार हुए हैं जिसमें पुलिस द्वारा कोई प्रमाणिक कार्रवाई नहीं हुई. आज के मार्च में लगभग एक लाख लोग थे. हमारे तकरीबन 1500 कार्यकर्ता इसमें घायल हुए हैं.”

लाठी के दम पर भाजपा का विस्तार नहीं रोक सकती 
केंद्रीय मंत्री ने कहा, “भाजपा इस बर्बरतापूर्ण आचरण की भर्त्सना करती है. हम बहुत ही विनम्रता से ये कहना चाहते हैं ममता जी और TMC को कि अगर आपको लगता है कि लाठी से और पुलिसिया दमन से आप भाजपा के विस्तार को बंगाल में रोक लेंगी तो आप इसमें सफल नहीं होंगी.”

120 से भी अधिक भाजपा  की हत्या 
भाजपा युवा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और सांसद तेजस्वी सूर्या ने पश्चिम बंगाल पर हमला करते हुए कहा, “भारत की सबसे भ्रष्ट सरकार आज बंगाल में है. इस सरकार के विरोध में जो युवा आवाज उठाता है, उसकी राजनैतिक हत्या कर दी जाती है. पिछले 2 सालों में 120 से भी अधिक भाजपा और भारतीय जनता युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं की हत्या कर दी गई.”

पानी में कोई केमिकल नहीं: राज्य सचिव 
भाजपा के आरोप पर जवाब देते हुए राज्य के मुख्य सुरक्षा अधिकारी अलपन बंद्योपाध्याय ने कहा, “तोप के पानी में किसी रसायन का इस्तेमाल नहीं किया गया था, यह गलत जानकारी है. रंगीन पानी का उपयोग करने के लिए विश्व स्तर पर इरादे के रूप में यदि आवश्यक हो तो कानून के अनुसार आगे की कार्रवाई के लिए एक व्यक्ति पोस्ट डिस्पैरल की पहचान करना है.”

लोकतंत्र और जनतांत्रिक मूल्यों की दुहाई देने बंगाल पर खामोश
केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नक़वी ने हमला बोलते हुए कहा, “बंगाल में सरकार के संरक्षण में जिस तरह की उद्दंडता, अराजकता और खून-खराबा हो रहा है वो निश्चित तौर से किसी भी लोकतांत्रिक सिस्टम को शर्मसार करता है. अचंभे की बात है कि लोकतंत्र और जनतांत्रिक मूल्यों की दुहाई देने वाली ब्रिगेड अब बंगाल के मामले पर खामोश है.”