BENGAL

नाबन्ना. पश्चिम बंगाल में इस समय BJP की राजनीती अपने चरम पर है। आज इसके कार्यकर्ताओं की हत्या के खिलाफ पार्टी सड़कों पर उतर आई है। जिसके चलते अब राजधानी कोलकाता में जगह-जगह प्रदर्शन हो रहे हैं। इन सब प्रदर्शनों के चलते  विद्यागसागर सेतु और हावड़ा ब्रिज को पूरी तरह से बंद किया गया है। वहीं प्रदर्शन कर रहे बीजेपी कार्यकर्ताओं पर पुलिस ने लाठीचार्ज भी किया है और साथ ही वाटर कैनन का भी इस्तेमाल हुआ है ताकि प्रदर्शनकारियों को तितर बितर किया जा सके।

वहीं बीजेपी महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा है कि पश्चिम बंगाल सरकार बुरी तरह भयभीत है। इसीके चलते वह लोगों के विरोध के बुनियादी लोकतांत्रिक अधिकारों को भी अब यह नकार रही है। राज्य सचिवालय बंद है। जहां तक मोदी जी या BJP की बात है तो हमें TMC या मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से किसी भी प्रमाणपत्र की आवश्यकता कटाई नहीं है ।

इसी के साथ कैलाश विजयवर्गीय का यह भी कहना था कि, “कहाँ लोकसभा चुनाव के दौरान ममता बनर्जी कह रही थी कि हमें  जीरो मिलेगा, लेकिन हमें यहाँ 18 सीटें मिलीं। यही नहीं हम आने वाले विधानसभा चुनाव में दो तिहाई बहुमत से भी  जीतेंगे। हाँ, आज का विरोध शांतिपूर्ण होगा और हम इसे सुनिश्चित भी करेंगे।”

गौरतलब है कि BJP के ‘नबन्ना की ओर मार्च’ के दौरान हावड़ा के संतरागाछी में कार्यकर्ताओं को रोकने के लिए पुलिस ने आज पानी की बौछारों और आंसू गैस का इस्तेमाल किया है। इसके पहले इन प्रदर्शनों को देखते हुए  पश्चिम बंगाल सरकार ने सचिवालय नाबन्ना को दो दिनों के लिए बंद करने का फैसला किया था। वहीं अब  हावड़ा में स्थित इस सचिवालय में 8 अक्टूबर और 9 अक्टूबर को सैनिटाइजेशन किया जाएगा। जिसके चलते  दो दिनों के लिए यहां का कामकाज बंद रहेगा। 

बता दें कि नाबन्ना के आसपास वैसे ही धारा-144 लागू रहती है लेकिन अब BJP के प्रदर्शन को देखते हुए यहाँ की प्रशासन और भी सतर्क हो गया है। वहीं BJP की रैली सचिवालय तक न पहुंचे  इसके लिए नाबन्ना की ओर आ रहे सभी रास्तों पर 5 डीआईजी स्तर के अधिकारी भी तैनात हैं। फिलहाल BJP का यह प्रदर्शन खबर लिखे जाने तक अपने चरम पर है।