shaktikant das
File Pic

    नयी दिल्ली. अब बैंक कर्मियों के लिए भी एक खुशखबरी है। दरअसल रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने बैंक कर्मियों के लिए एक बड़ा ही खुशगवार फैसला लिया है। जी हाँ अब RBI ने आदेश दिया है कि जो बैंकर्स संवेदनशील पदों पर काम कर रहे हैं उन्हें हर साल कम से कम 10 दिन की सरप्राइज लीव (Mandatory Surprise Leave) यानी बिना बताए छुट्टी भी मिलेगी। ये नया नियम शेड्यूल कमर्शियल बैंक के अलावा रूरल डेवलपमेंट बैंक और को-ऑपरेटिव बैंकों पर भी लागू होने वाला है।

    मिलेगी 10 दिनों की सरप्राइज लीव :

    विदित हो कि RBI के 2015 के सर्कुलर के अनुसार, ऐसे बैंकर्स जो ट्रेजरी ऑपरेशन, करेंसी चेस्ट, रिस्क मॉडलिंग, मॉडल वैलिडेशन जैसे सेक्शन में काम करते हैं वे अति संवेदनशील माने जाते हैं। इस नियम के साथ ही संवेदनशील पदों को लेकर एक लिस्ट भी जारी होगी जिन्हें हर साल ‘Mandatory Leave’ के तहत हर साल 10 दिनों की छुट्टी आकस्मिक दे दी जाएगी। इस नियम के तहत बैंकर्स को पहले से इस छुट्टी के बारे में कुछ भी पता नहीं होगा।

    RBI के किए निर्देश जारी :

    दरअसल RBI  ने आदेश जारी करते हुए कहा कि ग्रामीण विकास बैंक और सहकारी बैंक समेत बैंकों को भेजी सूचना में विवेकपूर्ण जोखिम प्रबंधन उपाय (RBI Modified Risk Management Guidelines) के तहत अप्रत्याशित अवकाश देने की नीति तैयार करने को कहा गया है। बैंकों से उनके निदेशक मंडल बोर्ड की अनुमोदित नीति के अनुसार संवेदनशील पदों की सूची तैयार करने और समय-समय पर सूची की समीक्षा करने के लिए कहा गया है। इसके साथ ही RBI ने बैंकों से 6 महीने के भीतर संशोधित निर्देशों का पालन करने को भी स्पष्ट कहा है।

    कैसा होगा ये अवकाश :

    नियमों के अनुसार इस अघोषित अवकाश के दौरान, बैंक कर्मचारी को आंतरिक/कॉरपोरेट ईमेल को छोड़कर फिजिकल या फिर वर्चुअल किसी भी तरह का काम नहीं करना होगा। बता दें कि बैंक कर्मचारियों के पास सामान्य प्रयोजन से आंतरिक/कॉरपोरेट ईमेल की सुविधा भी उपलब्ध होती है।