CAA नागरिकता देगा, छीनेगा नहीं: पीएम मोदी

कोलकाता: पश्चिम बंगाल में आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का दूसरा दिन हैं। उन्होंने बेलूर मठ में कहा कि CAA को लेकर देश भर में चर्चा हो रही है। उन्होंने कहा कि इस कानून को लेकर कुछ युवा भ्रम के शिकार

कोलकाता: पश्चिम बंगाल में आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का दूसरा दिन हैं। उन्होंने बेलूर मठ में कहा कि CAA को लेकर देश भर में चर्चा हो रही है। उन्होंने कहा कि इस कानून को लेकर कुछ युवा भ्रम के शिकार हैं। उन्होंने कहा कि पश्चिम बंगाल की धरती से एक बार फिर से वे लोगों को आश्वस्त करना चाहेंगे कि ये कानून नागरिकता देने के लिए बना है।

छीनने के लिए नहीं। पीएम ने कहा कि ये कानून रातों-रात नहीं बना है। बल्कि इस कानून में संसद के जरिए मात्र एक संशोधन किया गया है। पीएम ने कहा कि इस कानून में नागरिकता लेने के लिए सहूलियत बढ़ाई गई है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में धर्म के आधार पर प्रताड़ित लोगों को भारत की नागरिकता मिले ऐसा महात्मा गांधी भी चाहते थे। उन्होंने कहा कि CAA पर गलतफहमियों को दूर किया जाना चाहिए। 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बेलूर मठ में मौजूद लोगों से पूछा कि क्या भारत आए शरणार्थियों को मरने के लिए छोड़ देना चाहिए, क्या उन्हें लेकर हमारी जिम्मेदारी नहीं है। पीएम ने कहा कि इतनी स्पष्टता के बावजूद, कुछ लोग सिटिजनशिप अमेंडमेंट एक्ट को लेकर भ्रम फैला रहे हैं। मुझे खुशी है कि आज का युवा ही ऐसे लोगों का भ्रम भी दूर कर रहा है। उन्होंने कहा कि आप जैसे युवा CAA की जिस बात को समझ गए हैं, राजनीति का खेल खेलने वाले इसे नहीं समझना चाहते हैं।

प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में पूर्वोत्तर के राज्यों को भी संबोधित किया, उन्होंने कहा कि पूर्वोत्तर की संस्कृति पर उन्हें गर्व हैं। उन्होंने कहा कि CAA की वजह से पूर्वोत्तर के किसी संवैधानिक व्यवस्था पर कोई असर नहीं पड़ेगा। पीएम ने कहा कि पाकिस्तान में अल्पसंख्यकों पर जो अत्याचार होता है उसका पर्दाफाश सीएए की वजह से हो सका है, और युवाओं ने पाकिस्तान के इस सच को सामने लाने में अहम भूमिका निभाई है। उन्होंने कहा कि दुनिया भर में पाकिस्तान के जुल्म के खिलाफ भारत का युवा आवाज उठा रहा है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान को जवाब देना पड़ेगा कि 70 साल में वहां अल्पसंख्यकों के साथ जुल्म क्यों हुआ।