Center requested to take precautionary measures to demolish China's evil plans

ईटानगर. पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में भारतीय सेना और चीनी सैनिकों के बीच हिंसक झड़प को लेकर अरूणाचल प्रदेश के नेताओं, अग्रणी छात्र संगठनों सहित आम लोगों ने चीन की निंदा की है। चीन के नापाक मंसूबे को ध्वस्त करने के लिए लोगों ने केंद्र से एहतियाती कदम भी उठाने का अनुरोध किया है। अरूणाचल प्रदेश में चीन से लगी 3488 किलोमीटर की सीमा है।

अरूणाचल के कुछ लोगों ने कहा, ‘‘हम अरूणाचल के वासी हैं और एक दूसरे को जय हिंद कहकर अभिवादन करते हैं । ” उन्होंने राज्य में चीन के घुसपैठ के किसी भी प्रयास को नाकाम बनाने के लिए केंद्र से एहतियाती कदम उठाने का आग्रह किया। अरूणाचल पूर्व संसदीय सीट से भाजपा सांसद तपिर गाओ ने कहा, ‘‘अरूणाचल के देशभक्त लोग चीन के अमानवीय कदम पर तीखी प्रतिक्रिया जता रहे हैं।”

उन्होंने केंद्र से अरूणाचल प्रदेश के सीमावर्ती क्षेत्रों के साथ ही सिक्किम, हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में भी एहतियाती कदम उठाने का आग्रह किया। राज्य में शीर्ष छात्र संगठन ऑल अरूणाचल प्रदेश स्टूडेंट यूनियन (एएपीएसयू) ने गलवान में झड़प की निंदा करते हुए सामाजिक-आर्थिक रूप से चीन का बहिष्कार करने की अपील की है।(एजेंसी)