7th Pay Commission:  सरकारी कर्मचारियों को जल्द मिल सकता है DA बढ़ा का पैसा, इस महीने चेक करें अकाउंट

    नई दिल्ली. 7th Pay Commission: कोरोना संकट(Cortonavirus) के बीच लाखों  केंद्रीय कर्मचारियों और (Central government employees) पेंशनर्स (Pensioners) को  पुरानी दर (17 फीसदी) पर महंगाई भत्ता (डीए)  मिलने की उम्मीद में हैं। केंद्रीय सरकार ने कुछ दिनों पहले कर्मचारियों के महंगाई भत्ते (DA) में बढ़ोतरी की योजना बनाई थी, जिसका ऐलान होली से पहले किया जाना था, परंतु सरकार ने अब तक DA को लेकर कोई जानकारी नहीं दी है।  

    केंद्रीय कर्मचारियों को DA में बढ़ोतरी का इंतजार

    केंद्रीय कर्मचारियों की महंगाई भत्ते की तीन किस्तें और पेंशनर्स के DR के लिए म्लाम्बा इंतजार करना पड़ रहा है। बता दें कि, कोरोना महामारी के चलते कर्मचारियों के 1 जनवरी, 2020, 1 जुलाई 2020 और 1 जनवरी 2021 का DA और DR रोक दिया गया था। अभी तक केंद्रीय कर्मचारियों का महंगाई भत्ता 7 परसेंट DA मिलता है, यदि इसमें 4 फीसदी की बढ़ोतरी की जाती है तो यह 21 फीसदी हो जाएगा। संभावना जताई जा रही है कि, केंद्र सरकार 4 फीसदी एरियर्स देने का भी ऐलान कर सकती है। ऐसे में कुल डीए बढ़कर 25 फीसदी हो जाएगा।

    जनवरी से जून के बीच बढ़ेगा DA

    रिपोर्ट के अनुसार DA में इजाफा जनवरी से जून 2021 के बीच होगा, यानि केंद्रीय कर्मचारियों को एरियर की मोटी रकम आएगी। महंगाई भत्ते में इजाफे का सीधा असर DA, HRA, यात्रा भत्ता (Travel Allowance- TA), मेडिकल अलाउंस पर होगा। 

     जुलाई में जारी हो सकता है महंगाई भत्ता?

    केंद्रीय राज्य वित्त मंत्री अनुराग ठाकुर के कुछ दिनों पहले महगाई भत्ते को लेकर बयान जारी किया था। जिसमें उन्होंने कहा था कि, सरकारी कर्मचारियों की महंगाई भत्ते की बकाया किस्तें जारी कर सकती है। साथ ही उन्होंने कहा, 1 जुलाई, 2021 को जारी की जाने वाली महंगाई भत्ते की किस्त के साथ बीते साल की दो बकाया किस्तें में जारी होगी। यह तीनों किस्तें सातवें वेतन आयोग के तहत नई दरों पर दी जाएगी। जिससे सरकारी कर्मचारियों को बड़ी राहत मिलेगी।

    फैमिली पेंशन में हुई बढ़ोत्तरी

    केंद्र सरकार ने सरकारी पेंशनधारकों के लिए फैमिली पेंशन की अधिकतम सीमा बढ़ाने की घोषणा की है। फैमिली पेंशन की अधिकतम सीमा ढाई गुना बढ़ाया गया है। यानि अब सरकारी कर्मचारी की मौत होती है तो परिवार को पेंशन के रूप में अब 1.25 लाख रुपए मिलेंगे। बता दें कि, अब तक यह सीमा अधिकतम 45 हजार रुपए थी, जिसे अब बढ़ा दिया गया है।