INDRAPRATAP-SINGH

    छतरपुर. मध्यप्रदेश (Madhya Pradesh) के छतरपुर के बड़ामलहरा में एक हत्या का सनसनीखेज मामला अब सामने आया है। बताया जा रहा है कि बीते मंगलवार शाम को दो अज्ञात बाइक सवारों ने कांग्रेस नेता और घुवारा ब्लॉक कांग्रेस के अध्यक्ष इंद्र प्रताप सिंह परमार (Indra Pratap Singh Parmar) की सरेआम गोली मार कर हत्या (Murder) कर दी है। 

    गोली चलाने के बाद यह दोनों ही आरोपी घटनास्थल से बाइक से फरार हो गए हैं। इधर इस सनसनीखेज मामले में पूर्व मुख्यमंत्री और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ (Kamalnath) ने जघन्य हत्या को लेकर प्रदेश की शिवराज  सरकार पर निशाना साधा है। इस घटना पर कमलनाथ ने ट्वीट कर कहा कि, “मुख्यमंत्री शिवराज दूसरे राज्यों में जाकर एमपी में सुशासन की डींगें हांक रहे हैं। इधर, प्रदेश में रोज हत्या और बलात्कार जैसे अपराध तेजी से बढ़ रहे हैं।”

    क्या थी घटना:

    गौरतलब है कि छोटे राजा के नाम से पहचाने जाने वाले इंद्र प्रताप सिंह परमार पर हमला करने वाले एक मोटरसाइकिल पर सवार होकर आए थे। इस घटना के समय परमार आयुष होटल के पास खड़े थे। तभी बाइक की पिछली सीट पर बैठा युवक उतर कर उनके करीब आया और एकदम से गोली चला दी। यही नहीं हमलावरों ने परमार को गोली मारने के बाद दहशत फैलाने के लिए दो हवाई फायर किए और उसी बाइक पर सवार फिर होकर फरार हो गए।

     परिजनों ने की अस्पताल में जमकर तोड़ फोड़: 

    इधर घायल अवस्था में छोटे राजा को बड़ामलहरा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र लाया गया। फिर उनकी गंभीर हालत को देखते हुए वहां के डॉक्टर ने उन्हें जिला अस्पताल रेफर कर दिया, जहां डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। इसके बाद हत्या से गुस्साए मृतक नेता इंद्र प्रताप सिंह परमार  के परिजनों ने अस्पताल में जमकर तोड़ फोड़ की। यही नहीं उन्होंने अस्पताल के मुख्य दरवाजे पर लगी कांच की खिड़कियों को तोड़ दिया। वहीं मौके पर मौजूद पुलिसकर्मियों से उनकी तीखी नोकझोंक हुई। इधर मृत नेता के समर्थक इसके बाद अस्पताल के मुख्य दरवाजे पर पहुंचे और चक्का जाम करने लगे। इसके बाद भारी पुलिस बल के साथ पुलिस और प्रशासन के अधिकारी मौके पर पहुंचे और फिर जाम खुलवाया। बताया जा रहा है कि इस गोलीबारी की घटना में इन्द्र प्रताप सिंह की मौत मौके पर ही हो चुकी थी।

    हालाँकि हत्या के कुछ घंटे बाद ही कमलनाथ ने ट्वीट कर इंद्र प्रताप सिंह परमार की मौत पर अपना शोक जताया और मध्य प्रदेश सरकार के साथ CM  शिवराज सिंह चौहान को फिर जनता के कटघरे में खड़ा कर दिया है। वहीं इसके साथ ही कमलनाथ ने आरोपियों की तत्काल गिरफ्तारी की मांग करते हुए शिवराज सरकार द्वारा प्रदेश की कानून-व्यवस्था पर भी सवाल उठाए।