mamta-mahato

    कोलकाता. जहाँ एक तरफ पश्चिम बंगाल (West Bengal) में विधान सभा चुनाव (Vidhan Sabha Elections) की सरगर्मियां अपने चरम पर है। वहीं एक बड़ी खबर के अनुसार राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने माओवादी से TMC नेता बने छत्रधर महतो (Chatradhar Mahato) को अपने गिरफ्त में ले लिया है। अगर मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो NIA ने महतो को देर रात 3 बजे लालगढ़ में स्थित उनके निजी आवास से गिरफ्तार किया है। सूत्रों की मानें तो महतो को UAPA के तहत 2009 के राजधानी एक्सप्रेस केस के चलते गिरफ्तार किया गया है। 

    CM ममता के ख़ास:

    यह भी खबर आ रही है कि महतो को आज कोर्ट में पेश किया जाएगा। विदित हो कि  महतो को इससे पहले भी NIA अपने गिरफ्त में ले चुकी है। लेकिन जेल से वापस बहार आने के बाद महतो को TMC में शामिल कर लिया गया था। अभी बीते साल ही छत्रधर महतो माओवाद का रास्ता छोड़कर TMC में शामिल हुए थे। इतना ही नहीं बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamta Banerjee) ने लालगढ़ आंदोलन के दौरान इन्ही छत्रधर महतो के साथ अपना मंच साझा किया था और तभी से आरोप लगने शुरू हुए थे कि ममता बनर्जी माओवादियों का भी समर्थन ले रही हैं।

    महतो: जेल में गुजरे 10 साल: 

    बता दें की छत्रधर महतो जेल में 10 साल गुजारने के बाद बीते साल फरवरी में रिहा हो गए थे। जिसके बाद उन्हें TMC ने जिला कमेटी में शामिल कर लिया। अगर मीडिया रिपोर्ट्स की मानें तो केंद्रीय गृह मंत्रालय ने NIA को भुवनेश्वर-नई दिल्ली राजधानी एक्सप्रेस अपहरण मामले की जांच फिर करने का आदेश दिया था। 2009 में इस ट्रेन को अपहरण करने का आरोप PCAPA पर लगा था। इसके साथ ही जो माओवादी इस घटना में शामिल थे वे छत्रधर महतो की रिहाई की ही मांग कर रहे थे। बता दें कि उस वक्त जंगलमहल इलाके में महतो लेफ्ट फ्रंट के खिलाफ अपना मोर्चा खोले हुए थे।