Chinese App Ban China, intimidated by India's action, said - 'It violates world trade law'

नई दिल्ली: भारत सरकार द्वारा चीन के 59 एप्स पर प्रतिबंध लगाए जाने के बाद चीन तिलमिलया हुआ है. वह इस झटके से निकल नहीं पारहा है. भारत में चीनी  दूतावास के प्रवक्ता जी रोंग ने कहा,’ चीनी पक्ष इस तरह की कार्रवाई से पूरी तरह से चिंतित है और दृढ़ता से विरोध कर रहा है.’
 
प्रवक्ता ने आगे कहा, ‘ भारत का माप, चुनिंदा और भेदभावपूर्ण तरीके से अस्पष्ट और दूर-दराज के आधार पर कुछ चीनी ऐप्स पर, निष्पक्ष और पारदर्शी प्रक्रिया आवश्यकताओं के विरुद्ध चलता है, राष्ट्रीय सुरक्षा अपवादों का दुरुपयोग करता है, और विश्व व्यापार संगठन के नियमों का उल्लंघन करता है. 
 
जी रोंग ने कहा, ‘ यह अंतर्राष्ट्रीय व्यापार और ई-कॉमर्स की सामान्य प्रवृत्ति के खिलाफ भी जाता है, और उपभोक्ता हितों और भारत में बाजार की प्रतिस्पर्धा के लिए अनुकूल नहीं है.’
 
टिकटॉक समेत 59 एप्प पर लगाया बैन 
सोमवार को भारत सरकार ने चीन के  टिकटॉक समेत 59 एप को प्रतिबंध कर दिया है. सरकार ने इन एपो पर डेटा लिक करने और भारत की सुरक्षा के खतरे को द्केहते हुए यह निर्णय लिया. इसके पहले भारतीय सुरक्षा एजेंसियों से चीनी एप्स की एक सूची तैयार कर केंद्र सरकार से उनपर रोक लगाने की अपील की थी. 

यह है लिस्ट: 
टिक-टॉक, शेयर इट, कवाई, यूसी ब्राउजर, बायडू मैप, शेन, क्लैश ऑफ किंग्स, डीयू बैटरी सेवर, हेलो, लाइकी, यूकैम मेकअप, एमआई कम्युनिटी, सीएम ब्राउजर, वायरस क्लिनर, आपुस ब्राउजर, रोमवी, क्लब फैक्ट्री, न्यूजडॉग, ब्यूटी प्लस, वीचैट, यूसी न्यूज, क्यूक्यू मेल, वीबो शामिल है.