Kejriwal and gautam gambhir

    नयी दिल्ली.  जहाँ देश (India) में कोरोना (Corona) की दूसरी लहर के चलते चारों तरफ विनाश हो रहा है।  वहीं अब देश की राजधानी दिल्ली में बढ़ते इस तरह कोरोना संक्रमण (Corona Infection) और लोगों की बढती मौतों को देखते हुए पूर्वी दिल्ली से BJP सांसद और पूर्व क्रिकेटर गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) ने अब अपने संसदीय क्षेत्र के लोगों को ‘Fabiflu’ देने की घोषणा के बाद अब भयंकर बवाल मच गया है।  इधर अब कांग्रेस के साथ आम आदमी पार्टी (AAP)ने BJP सांसद की आलोचना करते हुए कहा कि यह दवाएं संकट से जूझ रहे अस्पतालों को मिलनी चाहिए, लेकिन वह इसे लोगों को खुले आम दे रहे हैं

    होने लगी राजनीति:

    इन सबके बीच  आम आदमी पार्टी (AAP)विधायक सोमनाथ भारती ने गौतम गंभीर की घोषणा पर उनको ‘अपराधी’ कहते हुए ट्वीट किया कि, “क्या यह आपराधिक नहीं है? एक सांसद अपनी इच्छा के अनुसार दवाइयां जमा करता है और जिसे चाहता है उसे देता है।  उसे अस्पताल में क्यों नहीं देना चाहिए?” वहीं इसके अलावा एक अन्‍य आप नेता राजेश शर्मा ने भी गंभीर पर निशाना साधते हुए ट्वीट किया कि, “रेमडिसिविर, फैबिफ्लू और अन्य महत्वपूर्ण दवाएं बाजार से बाहर हैं।  बीजेपी नेता इन दवाओं की अब जमाखोरी कर रहे हैं।  ऐसे नेताओं पर गंभीर मामला दर्ज किया जाना चाहिए।  यही नहीं, कांग्रेस नेता पवन खेड़ा ने भी पूछा है कि क्या इस तरह दवा वितरित करना गैर कानूनी नहीं है। 

    यह था गंभीर का ऐलान:

    बता दें कि BJPसांसद गौतम गंभीर ने कहा था कि, “पूर्वी दिल्ली के लोग मेरे कार्यालय 2, जाग्रति एनक्लेव से ‘Fabiflu’ ले सकते हैं।  इसके लिए सुबह 10 बजे से शाम 5 बजे तक उन्हें मेरे ऑफिस में आना होगा। ” उन्होंने यह भी कहा कि, “इंजेक्शन लेने के लिए लोगों को डॉक्टर का पर्चा और अपना आधार कार्ड भी लेकर आना होगा। “

    वहीं, गंभीर ने बढ़ते कोरोना संक्रमण पर केजरीवाल सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि सरकार के पास कोई विजन ही नहीं है।  ना ही काम करने के लिए उनके पास कोई दिशाहै।  यहाँ रोज दिल्ली के लोग मर रहे हैं।  ऐसे में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को अपने पद से जरुर इस्तीफा दे देना चाहिए।