oxygen
Representative Image

    नई दिल्ली: देश में कोरोना (Coronavirus Pandemic) का कहर थमने के कोई आसार नजर नहीं आ रहे हैं। कोविड-19 (COVID-19) से संक्रमित मरीजों की संख्या लगातार बढती जा रही है। कोरोना तांडव के बीच देश में ऑक्सीजन की किल्लत अस्पतालों में देखने को मिल रही है। इसी बीच अच्छी खबर सामने आ रही है। बताना चाहते हैं कि रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) ने कोरोना हालात के मद्देनजर  SpO2 (Blood Oxygen Saturation) पूरक ऑक्सीजन वितरण प्रणाली को तैयार किया है। कहा जा रहा है कि ये कोरोना मरीजों के लिए काफी कारगर होगा। 

    ज्ञात हो कि डीआरडीओ द्वारा तैयार किया SpO2 का सबसे ज्यादा उपयोग बहुत अधिक उंचाई वाले इलाकों में तैनात सैनिकों के लिए हो सकता है। साथ ही यह कोरोना मरीजों के लिए भी मददगार साबित होगा। रक्षा मंत्रालय ने अपने एक बयान में कहा कि यह स्वचालित प्रणाली कोविड के इस संकट के समय में वरदान साबित हो सकती है। 

    उल्लेखनीय है कि डीआरडीओ, बेंगलुरु के डिफेंस बायो-इंजीनियरिंग एंड इलेक्ट्रो मेडिकल लेबोरेटरी (DEBEL) द्वारा बनाए गए सिस्टम SpO2 एक लेवल सेट करते हुए व्यक्ति को हाइपोक्सिया की स्थिति में जाने से पूरी तरह बचा देता है, जो ज्यादातर मामलों में जानेलवा है।

    गौर हो कि कोरोना संकट के समय अधिकतर मौतों में ऑक्सीजन की कमी मानी जा रही है। जानकारी के अनुसार ज्यादातर गंभीर मामलों में ऑक्सीजन मरीजों के लिए बहुत जरुरी होता है। ऐसे में डीआरडीओ द्वारा निर्मित इस सिस्टम का प्रयोग करने से इन मरीजों को यह मददगार साबित हो सकता है।