corona
File Photo

    नई दिल्ली: भारत में कोरोना (Coronavirus Pandemic) कब थमेगा यह कहना मुश्किल है। कोविड (COVID-19) ने देश में तांडव मचाया हुआ है। जैसे हालात एक साल पहले थे उससे अधिक खतरनाक हालात बनते दिखाई पड़ रहे हैं। देश में पिछले 24 घंटे के भीतर कोरोना के 1 लाख 15 हजार से अधिक नए मामले सामने आए हैं। केंद्रीय स्वास्थ मंत्रालय द्वारा जारी आंकड़ों के बाद  भारत में एक्टिव कोरोना के मामलों की संख्या 10 लाख के पास पहुंचने वाली है।

    बता दें कि कोरोना संकट के बीच मायानगरी मुंबई और राजधानी दिल्ली में बेड्स को लेकर हाहाकार मचा हुआ है। साथ ही आज तक के अनुसार पुणे, नागपुर में भी बेड्स की कमी नजर आ रही है। ऐसे में कोरोना के बीच इसे लेकर सारी जानकारी आपको जानना चाहिए। मुंबई की बात करें तो यहां रोजाना 10 हजार से अधिक मामले सामने आ रहे हैं। यही कारण है कि बेड्स को लेकर चिंता बढ़ गई है।  

    वैसे मुंबई में मौजूदा समय में बेड्स की कमी तो नहीं है लेकिन आंकड़ा तेजी से बढ़ने के कारण हालात खराब होते जा रहे हैं। पांच अप्रैल तक के बीएमसी की तरफ से जारी आंकड़ों की मानें तो मुंबई में कोरोना रिजर्व के 5 हजार 400 बेड्स रिक्त हैं। जबकि 17 हजार बेड्स पांच अप्रैल तक भर गए हैं। साथ ही 51 वेंटिलेटर बेड्स अब खाली हैं।

    वहीं दिल्ली की बात करें तो वहां भी कोविड की नई लहर चल रही है। राजधानी में इससे पहले 5 हजार से अधिक नए कोरोना के मामले सामने आए हैं। दिल्ली में भी बेड्स तेजी से भरते जा रहे हैं। सरकार की तरफ से जारी आंकड़ों के मुताबिक 8 हजार 229 कोरोना के बेड्स हैं। जिसमें से 3 हजार 770 भर गए हैं।  वेंटिलेटर की बात की जाए तो अभी 327 खाली पड़े हैं।  

    उल्लेखनीय है कि महाराष्ट्र के पुणे में भी बेड्स की कमी की खबर है। पुणे में पिछले कई दिनों से रोजाना 4 से पांच हजार नए कोरोना के मामले सामने आ रहे हैं। यही कारण है कि बेड्स फुल हो गए हैं। जिले के रूबी अस्पताल ने बताया की कोविड मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा होने के कारण बेड्स की कमी है।