Vaccination likely to be disrupted in 60 countries due to corona vaccine deficiency
Representative Image

    नई दिल्ली: भारत में कोरोना (Coronavirus Pandemic) का प्रकोप अभी कम नहीं हुआ है। राहत की बात यह है कि कोविड (COVID-19) के मामले लगातार कम जरूर हुए हैं। देश में वैक्सीनेशन (Corona Vaccination) का काम अभी जारी है।  कोरोना संकट के बीच भारत में इस साल के अंत का सभी को वैक्सीन अगर लगानी है तो कुल मिलाकर 1.88 बिलियन खुराक की जरूरत पड़ेगी।  इसमें से अभी 1.67 बिलियन दी जानी है। इस हिसाब से जून से हर महीने 23.8 करोड़ डोज चाहिए जिससे वैक्सीनेशन में तेजी लाकर दिसंबर तक सभी को वैक्सीन लगाई जा सके।  

    ज्ञात हो कि भारत में 31 मई तक 21.5 करोड़ से अधिक डोज दी गई है। यह संख्या किसी भी देश में वितरित की गई कुल डोजों की तुलना में तीसरी सबसे बड़ी संख्या में शामिल है।  रिपोर्ट के अनुसार भारत ने हर महीने अब तक 3.8 मिलियन डोज लोगों को लगाई गई है।  सरकार ने पहले ही साफ कर दिया है कि 120 मिलियन डोज अब दी जाएगी।  इस हिसाब से रोजाना 4 मिलियन डोज उपलब्ध होगी।  

    वहीं कोरोना संकट के बीच केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने एक प्रेस वार्ता में कहा है कि हमारी योजना दिसंबर तक देश की पूरी आबादी को वैक्सीन लगाने की है। जून से इसका आगाज हो जाएगा। इसके लिए 23.8 करोड़ डोज की जरूरत है। कहा यह भी जा रहा है कि जुलाई और अगस्त में रोजाना 10 मिलियन डोज उपलब्ध कराई जाएगी।