वहीं कोरोना से मरने वाले मरीज़ के शव की जांच उनके परिवार की सहमति से ही की गई थी। 

नयी दिल्ली. भारत में कोविड-19 से संक्रमित लोगों की मृत्यु दर (सीएफआर) शनिवार को 1.5 प्रतिशत से नीचे आ गई। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने यह जानकारी दी और मृत्यु दर को नीचे रखने का श्रेय केंद्र सरकार के नेतृत्व वाली ‘‘जांच करने, संक्रमितों के संपर्क में आए लोगों का पता लगाने और उपचार करने” की रणनीति को दिया। उसने बताया कि देश में प्रति 10 लाख लोगों में मौत की दर बहुत कम (88) है। 

मंत्रालय ने बताया कि 23 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों में सीएफआर राष्ट्रीय औसत से कम है, जबकि कुल मृतकों में से 65 प्रतिशत लोगों की मौत पांच राज्यों में हुई है। उसने बताया कि शुक्रवार को कुल 551 लोगों की मौत हुई और संक्रमण से रोजाना मारे जा रहे लोगों की संख्या में लगातार कमी आ रही है। मंत्रालय ने बताया कि सीएफआर गिरकर 1.49 प्रतिशत हो गई है। उसने एक बयान में कहा कि ‘जांच करने, संक्रमितों के संपर्क में आए लोगों का पता लगाने और उनका उपचार करने’ की केंद्र सरकार के नेतृत्व वाली रणनीति के तहत महामारी को काबू करने की प्रभावी योजना, आक्रामक तरीके से जांच करने और मानक क्लीनिकल प्रबंधन प्रोटोकॉल पर ध्यान केंद्रित किया गया है। राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों ने इस रणनीति को प्रभावी तरीके से लागू किया है, जिसके कारण संक्रमण का शुरुआत में ही पता लगाने, संक्रमित व्यक्तियों को तत्काल पृथक-वास में रखने और अस्पताल में भर्ती लोगों के समय से क्लीनिकल प्रबंधन में मदद मिली। उसने कहा, ‘‘इन बातों ने यह सुनिश्चित किया कि भारत में कोविड-19 के कारण मौत के मामले कम रहें।”

मंत्रालय ने बताया कि जिन लोगों की कोरोना वायरस से मौत हुई है, उनमें से 65 प्रतिशत मामले महाराष्ट्र (36.04 प्रतिशत), कर्नाटक (9.16 प्रतिशत), तमिलनाडु (9.12 प्रतिशत), उत्तर प्रदेश (5.76 प्रतिशत) और पश्चिम बंगाल (5.58 प्रतिशत) से आये हैं। उसने बताया कि मौत के 85 प्रतिशत मामले 10 राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों–महाराष्ट्र, कर्नाटक, तमिलनाडु, उत्तर प्रदेश, पश्चिम बंगाल, आंध्र प्रदेश, दिल्ली, पंजाब, गुजरात और मध्य प्रदेश से हैं।

मंत्रालय ने बताया कि भारत में शुक्रवार को 59,454 और लोग संक्रमणमुक्त हुए, जबकि संक्रमण के 48,268 नए मामले सामने आए। देश में अब तक संक्रमणमुक्त हुए लोगों की संख्या 74,32,829 हो गई है। उसने कहा, ‘‘एक दिन में संक्रमणमुक्त हुए लोगों की अधिक संख्या दर्शाती है कि संक्रमण के बाद स्वस्थ होने की राष्ट्रीय दर लगातार बढ़ रही है और यह इस समय 91.34 प्रतिशत है।” मंत्रालय ने कहा, ‘‘भारत में उपचाराधीन मामलों की संख्या लगातार कम हो रही है। देश में अब तक संक्रमित पाए जा चुके लोगों में से मात्र 7.16 प्रतिशत लोगों का उपचार चल रहा है। इस समय 5,82,649 लोग उपचाराधीन हैं।” देश में उपचाराधीन लोगों की संख्या शनिवार को लगातार दूसरे दिन छह लाख से कम रही।

मंत्रालय ने बताया कि जो लोग स्वस्थ हुए हैं, उनमें से 79 प्रतिशत लोग 10 राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों में हैं। उसने कहा, ‘‘कर्नाटक और महाराष्ट्र में एक दिन में सर्वाधिक 8,000 से अधिक लोग स्वस्थ हुए। इसके बाद केरल में एक दिन में 7,000 से अधिक लोग संक्रमणमुक्त हुए।” मंत्रालय ने बताया कि संक्रमण के जो 48,268 नए मामले सामने आए हैं, उनमें से 78 प्रतिशत मामले 10 राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों में सामने आए। इसके अलावा शुक्रवार को जिन 551 लोगों की मौत हुई है, उनमें से करीब 83 प्रतिशत लोग 10 राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों से थे। इनमें से महाराष्ट्र में 23 प्रतिशत लोगों (127) की मौत हुई। देश में अब तक 81,37,119 लोग संक्रमित हो चुके हैं और कुल 1,21,641 लोगों की मौत हो चुकी है।