कोरोना वायरस : अंबानी से लेकर टाटा तक, जाने कितने रईसों ने दिया कितना योगदान

नई दिल्ली.कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में हाहाकार मचाया है। कोरोना के चलते देश 21 दिनों तक लॉकडाउन में चल रहा है। इस बिच देश की अर्थव्यवस्था का लड़खड़ा जाएगी। इसलिए शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र

नई दिल्ली. कोरोना वायरस ने पूरी दुनिया में हाहाकार मचाया है। कोरोना के चलते देश 21 दिनों तक लॉकडाउन में चल रहा है। इस बिच देश की अर्थव्यवस्था का लड़खड़ा जाएगी। इसलिए शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने एक राहत कोष बनाकर लोगों से मदद की अपील की है।

इस बिच कोरोना से लड़ने के लिए देश के तमाम उद्योगपति, सेलिब्रेटी, क्रिकेटर, नेता, कई सेवाभावी संस्थाएं, धार्मिक संस्थान आर्थिक मदद के लिए सामने आये है। इसमें अरबपति मुकेश अंबानी, आनंद महिंद्रा, रतन टाटा, अनिल अग्रवाल जैसे कई उद्योगपति कोरोना वायरस का मुकाबला करने के लिए पुरे दिल से दान किया है। तो आइए जानते है देश के किस अरबपति ने कितना दान दिया है।

मुकेश अंबानी, सीएमडी रिलायंस इंडस्ट्री 
कोरोना वायरस ले लड़ने के लिए रिलायंस इंडस्ट्री के सीएमडी मुकेश अंबानी ने अपना बहुत बड़ा योगदान दिया है। अंबानी ने मुंबई में बीएमसी के साथ मिलाकर पहला कोरोना मरीजों के लिए अस्पताल बनवाया। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री राहत कोष में 5 करोड़ रूपये दिए। साथ ही रिलायंस फाउंडेशन गैरसरकारी संघठनों के साथ मिलाकर विभिन्न शहरों में लोगों को मुफ्त भोजन प्रदान कर रहा है। मुकेश अंबानी ने यह भी कहा है कि,  कंपनी में 30 हजार रूपये से कम वेतन वाले कर्मचारियों का वेतन दोगुना किया जायेगा। वहीं GiveIndia अभियान और Network18 ग्रुप के कर्मचारियों ने दैनिक  वेतन भोगियो के लिए आर्थिक सहायता के रूप में एक दिन का वेतन दान करने का संकल्प लिया है। साथ ही कंपनी व्यक्तिगत सुरक्षा उपकरण के साथ साथ प्रतिदिन 10,0000 फेस मास्क बनाने की क्षमता बढ़ा रही है। 

रतन टाटा, टाटा ग्रुप 
रतन टाटा ने कोरोना के खिलाफ लड़ाई में मदत करने के लिए 1500 करोड़ रूपये का ऐलान किया। इसमें टाटा ट्रस्ट के 500 करोड़ और टाटा संस ने 1000 करोड़ रूपये का अतिरिक्त योगदान दिया है। कोरोना के बढ़ते प्रकोप को देखते रतन टाटा ने कहा है कि कोरोना के संकट से लड़ने लिए तत्काल आपातकालीन संसाधनों को तैनात करने की आवश्यकता है। साथ ही कंपनी में काम करने वाले अस्थायी श्रमिक और दैनिक श्रमिकों को मार्च-एप्रिल का पूरा वेतन देने की घोषणा की। 

आनंद महिंद्रा, अध्यक्ष महिंद्रा ग्रुप
कोरोना से फाइट, मदद करने आगे वालों में पहले उद्योगपति आनंद महिंद्रा। महिंद्रा ने कहा कि, उनकी कंपनी तुरंत इन संभावनाओं पर काम करना शुरू कर रही है कि कैसे उनकी निर्माण इकाइयों में वेंटिलेटर तैयार किए जा सकते हैं. , महिंद्रा ने मरीजों के लिए अपने रेजॉर्ट्स देने के साथ-साथ अपनी पूरी सैलरी देकर मॉनिटरी मदद की बातें कहीं। उनके क्लब महिंद्रा रेजॉर्ट्स मरीजो की देखभाल के लिए टेंपररी फसिलिटी के रूप में इस्तेमाल किए जा सकते हैं। यह भी कहा कि उनकी कंपंनी अन्य फसिलिटीज तैयार करने में सरकार और सेना की पूरी मदद करेगी।

ऑयल-टू- टेलिकॉम समूह 
ऑयल-टू- टेलिकॉम समूह ने मुंबई के सेवन हिल्स अस्पताल में 100 बेड का सेंटर समर्पित किया। साथ ही कोविड-19 के मरीजों के लिए पूरी तरह से सुसज्जित आयसोलेशन की सुविधा स्थापित की। 

बजाज समूह 
पुणे स्थित इस कंपनी ने 26 मार्च को 100 करोड़ रूपये की लगत से हेल्थकेयर इन्फ्रास्ट्रक्चर का उन्नयन किया। साथ ही ग्रामीण क्षेत्रों में आर्थिक सहायता, भोजन और आश्रय प्रदान करने की व्यवस्था की। 

अनिल अग्रवाल,  अध्यक्ष वेदांत रिसोर्सेस 
कोरोना की जंग में वेदांत रिसोर्सेस के अध्यक्ष अनिल अग्रवाल ने 100 करोड़ रूपये दान किये। अग्रवाल ने कहा कि, इस महामारी से लड़ाई के लिए 100 करोड़ देने का वचन दे रहा हूं. हमें देश की जरूरत के लिए वचन के तहत यह कर रहे हैं. यह वह समय है जब देश को हमारी सबसे ज्यादा जरूरत है. बहुत से लोग भविष्य को लेकर अनिश्चित हैं और मैं खासकर रोज कमाकर गुजारा करने वालों के लिए चिंतित हूं. हम अपनी तरफ से मदद की पूरी कोशिश करेंगे.’

पंकज मुंजाल, एमडी हीरो साइकिल्स
कोरोना वायरस के संकट से निपटने के लिए विश्व की अग्रणी साइकिल निर्माता कंपनी हीरो साइकिल्स लिमिटेड (Hero Cycles Limited) ने सौ करोड़ रुपये का विपदा के लिए फंड रखा है। इस फंड के जरिए कंपनी के सात हजार मुलाजिमों की आर्थिक एवं मेडिकल जरूरतों को पूरा किया जाएगा। साथ ही सरकार को भी मेडिकल उपकरण बनाने और लोगों को कोरोना के प्रति जागरूक करने के लिए मुहिम में सहयोग किया जाएगा।

इन सभी उद्योगपतियों ने कोरोना वायरस से निपटने के लिए अपना योगदान  दिया है। साथ ही कई उद्योगपतियों ने अपने अपने स्तर पर मदद की है। बता दे कि, कोरोना ने दुनिया के 195 से भी ज्यादा देशों को अपनी चपेट में लिया है। इसलिए इस वायरस को महामारी घोषित किया गया।  इस वायरस से दुनिया के 6 लाख से अधिक लोग संक्रमित हुए और 27 हजार से ज्यादा लोगों की मौत हुई है। 

देश में कोरोना की स्थिति 
देश में दिन प्रतिदिन कोरोना के मामले काफी तेजी से बढ़ रहे है। अब तक देश में कोरोना के 900 से अधिक पॉजिटिव मामले पाए गए है। साथ ही 23 लोगों की मौत हुई है। देश के कई राज्य कोरोना वायरस की चपेट में आये है। इनमे से महाराष्ट्र में सबसे ज्यादा मामले पाए गए। अब तक महाराष्ट्र में 177 पॉजिटिव मामले पाए गए साथ ही 5 लोगों की मौत हुई है। शनिवार को कोरोना से केरल में पहली मौत हुई हैं।