कोरोना वायरस पहुंचा भारत, 26 दवाओं के निर्यात पर लगी रोक

नई दिल्ली. चीन और अन्य देशों में कोरोना वायरस के पॉजिटिव मामले मिलने के बाद अब भारत में इस वायरस से संक्रमित 12 लोग मिले है। जिसे देखते हुए भारत सरकार अब सजग हो गई है। कोरोना वायरस से बचने के लिए

नई दिल्ली. चीन और अन्य देशों में कोरोना वायरस के पॉजिटिव मामले मिलने के बाद अब भारत में इस वायरस से संक्रमित 12 लोग मिले है। जिसे देखते हुए भारत सरकार अब सजग हो गई है। कोरोना वायरस से बचने के लिए केंद्र सरकार ने आपातकालीन बैठक बुलाई। इस बैठक में सरकार ने कुछ अहम फैसले लिए है। सरकार ने अपनी एक्सपोर्ट पॉलिसी में परिवर्तन किया है और 26 दवाओं का फॉर्मुलेशन के एक्सपोर्ट पर रोक लगा दी।

देश में दवाओं की कमी न हो इसी लिए सरकार ने यह फैसला लिया है, ताकि आपातकालीन स्थिति से निपटने के लिए कोई परेशानी न हो। चीन में तो कोरोना वायरस ने कहर ढाया है। इस वायरस से चीन में अब तक 2,943 लोगों की मौत हो गई है। कोरोना वायरस से व्यापर पर भी बहुत बुरा असर पड़ा है। इसमें फार्मा सेक्टर भी शामिल है। दवाएं बनाने के लिए चीन से जो फार्मा और एग्रो का रॉ मटेरियल आता है वह पूरी तरह रुक गया है। इस वजह से अब दवाओं के दामों में वृद्धि होने की आशंका जताई जा रही है।

इन दवाओं पर लगी रोक
पैरासीटामोल, टिनिडाजोल, निओमाइसिन, मेट्रोनिडाजोल, एसीलोविर, विटामिन बी1, विटामिन बी6, विटामिन बी12, प्रोजेसटेरोन, क्लोरैमफेनीकोल, इरिथोमाइसिन सॉल्ट, क्लिंडामाइसिन सॉल्ट, ऑर्निडाजोल, क्लोरैमफेनीकोल फॉर्मुलेशन, इरिथोमाइसिन सॉल्ट फॉर्मुलेशन, क्लिंडामाइसिन सॉल्ट फॉर्मुलेशन, प्रोजेसटेरोन फॉर्मुलेशन, विटामिन बी1 फॉर्मुलेशन, विटामिन बी6फॉर्मुलेशन, विटामिन बी12 फॉर्मुलेशन, निओमाइसिनफॉर्मुलेशन, मेट्रोनिडाजोल फॉर्मुलेशन और ऑर्निडाजोल।

जानकारी के लिए बता दें कि सांस लेने में तकलीफ होने पर आगरा के एक ही परिवार के 13 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया। जिनमे से 6 लोगों में कोरोना वायरस की पुष्टि हुई हैं। जिसके बाद संक्रमित लोगों को दिल्ली भेज दिया गया हैं, और बाकी को आइसोलेशन वार्ड में रख गया हैं।