Goa government orders private hospitals to reserve 20 percent beds for Kovid-19 patients

 पणजी. गोवा के मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत ने कहा कि उनके विधानसभा क्षेत्र संखलिम में कोरोना वायरस संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए जांच तेज की गई है। यहां अब तक कोविड-19 के 24 मामले सामने आए हैं। पिछले सप्ताह तक संखलिम विधानसभा में संक्रमण का कोई मामला नहीं था और यह क्षेत्र कोरोना वायरस के प्रभाव से मुक्त था, लेकिन पिछले दो-तीन दिन में यहां संक्रमण के 24 मामले सामने आए हैं। इन 24 मरीजों में संखलिम विधानसभा क्षेत्र के पूर्व विधायक भी हैं। सावंत ने संवाददाताओं को सोमवार को बताया कि पूर्व विधायक का इलाज ईएसआई अस्पताल में चल रहा है। यह अस्पताल खास तौर पर कोरोना वायरस मरीजों के लिए निर्धारित किया गया है। उनकी हालत स्थिर है।

मुख्यमंत्री ने कहा, ‘‘ वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए संखलिम में जांच तेज की गई है।” इसके अलावा मारगाओ विधानसभा में भी संक्रमण के कई मामले सामने आए हैं। इस क्षेत्र का नेतृत्व विधानसभा में विपक्ष के नेता दिगम्बर कामत करते हैं। वहीं, इसी क्षेत्र में एक झुग्गी बस्ती मोती दोंगोर को दक्षिणी गोवा प्रशासन ने निषिद्ध क्षेत्र घोषित कर दिया। यहां जारी स्वास्थ्य बुलेटिन के अनुसार सोमवार तक मोती दोंगोर में कुल 17 मामले सामने आए हैं। कामत ने बताया कि यहां लोगों के आने-जाने पर रोक लगा दी गई है और जांच तेज की गई है। राज्य के स्वास्थ्य मंत्री विश्वजीत राणे के उत्तरी गोवा में स्थित वालपोई विधानसभा क्षेत्र से भी कई मामले सामने आए हैं। वालपोई के मोर्लेम गांव से गोवा में संक्रमण से पहले व्यक्ति की मौत हुई थी। सोमवार तक गोवा में संक्रमण के 1,251 मामले सामने आए और तीन लोगों की मौत हो चुकी है।