भारत में कोविड-19 मरीजों का आंकड़ा दो लाख के पार, 15 दिन में एक लाख नए मामले

नयी दिल्ली. भारत भर में कोविड-19 के पुष्ट मामलों की संख्या मंगलवार को दो लाख से अधिक हो गयी तथा पिछले 15 दिनों में करीब एक लाख लोग इस घातक वायरस से संक्रमित हुए हैं। हालांकि सरकार ने कहा कि इस रोग को काबू करने के उसके एहतियाती उपाय काफी प्रभावी रहे हैं क्योंकि कई अन्य देशों की तुलना में भारत में मृतकों की संख्या काफी कम है। अधिकारियों ने यह भी कहा कि कोरोना वायरस से संक्रमित लोग के ठीक होने की दर भारत में सतत रूप से बेहतर हो रही है तथा वह इस महामारी से अपेक्षाकृत बेहतर ढंग से निबट पा रहा है। चीन में पिछले दिसंबर में इस वायरस के प्रसार के साथ अभी तक विश्व भर में 63 लाख लोग इससे संक्रमित हो चुके हैं और 3.7 लाख से अधिक लोगों की इसके कारण जान जा चुकी है।

केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने अपने सुबह के अपडेट में कहा कि नए कोरोना वायरस से भारत में मृतक संख्या बढ़कर 5598 हो गयी। सोमवार सुबह आठ बजे से अगले 24 घंटे के दौरान 204 लोगों की इसके कारण जान गयी है। इस अवधि में 8171 नये मामलों का पता चला जिससे कुल मामलों की संख्या बढ़कर 198706 पर पहुंच गयी। इसमें 97500 रोगियों का उपचार चल रहा है जबकि 95 हजार से अधिक रोगी इस संक्रमण से उबर चुके हैं। बहरहाल, विभिन्न राज्यों एवं केन्द्र शासित प्रदेशों द्वारा घोषित आंकड़ों के आधार पर पीटीआई-भाषा द्वारा तैयार की गयी तालिका के अनुसार मंगलवार रात दस बजकर पांच मिनट तक देश में कुल मामलों की संख्या बढ़कर दो लाख 321 हो गयी जबकि मृतक संख्या 5739 है। इस तालिका के अनुसार संक्रमण से उबरने वाले लोगों की संख्या 99 हजार 613 जबकि उपचार रत लोगों की संख्या 95 हजार है। जांस हाप्किंस यूनिवर्सिटी एंड मेडिसिन के वैश्विक ग्लोबल वायरस ट्रैकर की तालिका के अनुसार भारत में रात सवा दस बजे तक कुल मामलों की संख्या दो लाख एक हजार 997 थी। भारत में कोरोना वायरस के पहले मरीज का पता 30 जनवरी को लगा था जबकि एक लाख मरीज की संख्या पहुंचने में 110 दिन लगे और यह संख्या 18 मई तक पहुंची। बहरहाल, अगले करीब एक लाख मरीजों की संख्या महज 15 दिनों के भीतर ही बढ़ गयी।

सकारात्मक पक्ष देखें तो सात दिन में पहली बार ऐसा हुआ कि नये मामलों की संख्या में कमी है जबकि मृतक संख्या भी नीचे आयी है। सोमवार सुबह स्वास्थ्य मंत्रालय ने मृतक संख्या 230 बतायी थी जो 30 मई की सुबह 265 लोगों की मृतक संख्या के बाद दूसरा सबसे बड़ा आंकड़ा है। भारत में हाल के समय में परीक्षण सुविधाओं में भी खासा इजाफा हुआ है। अब औसतन 1.2 लाख नमूनों का प्रति दिन परीक्षण किया जा रहा है। भारत में अभी तक 40 लाख नमूनों का परीक्षण किया जा चुका है। परीक्षण के लिहाज से देखें तो विश्व में देश का नाम शीर्ष पांच राष्ट्रों में शामिल हैं। इन देशों में अमेरिका, रूस, ब्रिटेन और स्पेन भी शामिल हैं। किंतु यदि प्रति एक लाख व्यक्ति पर नमूनों का अनुपात लिया जाए तो भारत शीर्ष 100 देशों में कहीं पर नहीं आता। भारत, कुल मामलों की दृष्टि से इस समय विश्व में सातवां बुरी तरह प्रभावित राष्ट्र बन गया है। इस सूची में क्रमश: अमेरिका, ब्राजील, रूस, ब्रिटेन और स्पेन भारत से ऊपर हैं। अमेरिका में इसके 18 लाख, ब्राजील में पांच लाख, रूस में चार लाख, ब्रिटेन में 2.8 लाख, स्पेन में 2.4 लाख और इटली में 2.3 लाख से अधिक मामले हैं। इस संक्रमण के कारण होने वाली मौतों के मामले में अमेरिका 1.05 लाख मृतक संख्या के साथ शीर्ष पर है। भारत इस मामलें में दस शीर्ष देशों में कही नहीं है।

उपचाररत मामलों की संख्या में भारत का स्थान शीर्ष पांच देशों में आ गया है। अमेरिका इस सूची में 11 लाख उपचाररत मरीजों के साथ शीर्ष पर है। सरकार ने कहा कि भारत कोविड-19 के चरम पर पहुंचने से अभी काफी दूर है तथा उसके एहतियाती उपाय काफी प्रभावी रहे हैं तथा उसने अन्य देशों की तुलना में भारत की स्थिति को काफी बेहतर बनाये रखा है। कोविड-19 के बारे में प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने कहा कि मामलों की कुल संख्या तथा विश्व में मामलों की संख्या के चलते इसके सातवें स्थान पर पहुंचने की दृष्टि से ही भारत को देखना गलत होगा क्योंकि देशों की आबादी को भी ध्यान में रखा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि 14 ऐसे देश, जिनकी कुल आबादी भारत के बराबर है, ने 55.2 गुना अधिक रोगियों की मौत की जानकारी दी है। अग्रवाल ने कहा, ‘‘हमारी कोविड-19 की मृत्यु दर 2.82 प्रतिशत है जो वैश्विक स्तर पर 6.13 प्रतिशत की मृत्यु दर की तुलना में सबसे कम दरों में है। हम इसे इस कारण हासिल कर पाये क्योंकि मामलों की समय रहते पहचान की गयी और उन्हें समुचित चिकित्सा सुविधा दी गयी।” उन्होंने कहा कि भारत में कोविड-19 मामलों में मृतक संख्या दर प्रति एक लाख की आबादी पर 0.14 प्रतिशत है जबकि वैश्विक स्तर पर यह 4.9 प्रतिशत है। उन्होंने यह विश्व में सबसे कम है। यह पूछे जाने पर कि क्या भारत सामुदायिक प्रसार के चरण में प्रवेश कर गया है, भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आईसीएमआर) की प्रेस वार्ता में उपस्थित वैज्ञानिक निवेदिता गुप्ता ने कहा, ‘‘सामुदायिक प्रसार शब्द का प्रयोग करने बजाय यह समझना महत्वपूर्ण होगा कि रोग के प्रसार का क्या स्तर है तथा अन्य देशों की तुलना में हम कहां खड़े हुए हैं।” यह पूछे जाने पर कि चरम पर कब पहुंचेंगे, गुप्ता ने कहा, ‘‘हम चरम से बहुत दूर हैं।

रोग पर लगाम लगाने के लिए हमारे एहतियाती उपाय बहुत प्रभावी हैं तथा अन्य देशों की तुलना में हमारी स्थिति बहुत बेहतर है। आपको एक सप्ताह में आंकड़े देखने को मिल जाएंगे।” उन्होंने यह भी कहा कि भारत को कोविड-19 के मामलों की कम जानकारी नहीं दी जा रही है। केंद्र सरकार की ओर से जारी आंकड़ों और कुछ राज्यों एवं केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा जारी मौत के साथ ही पुष्ट मामलों के आंकड़ों में लगातार फर्क रहा। कई राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों जैसे उत्तर प्रदेश, महाराष्ट्र, दिल्ली, आंध्र प्रदेश, ओडिशा, राजस्थान, पश्चिम बंगाल, मेघायल, मिजोरम, नगालैंड, त्रिपुरा आदि ने मंगलवार को अधिक मामले सामने आने की बात कही। वहीं, त्रिपुरा में अगरतला के एक अस्पताल के शौचालय में 50 वर्षीय महिला ने कोरोना संक्रमित होने की आशंका में घबराहट में कथित तौर पर फांसी लगाकर खुदकुशी कर ली। उसकी जांच के लिये नमूना लिया गया था। स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव एस के राकेश ने कहा कि महिला को सोमवार को अस्पताल के फ्लू वार्ड में भर्ती कराया गया था। राकेश ने कहा, ‘‘महिला का शव सुबह करीब पांच बजे अस्पताल के शौचालय की छत से लटका पाया गया जबकि उसकी कोविड-19 रिपोर्ट सुबह 11 बजे आई। रिपोर्ट में संक्रमण की पुष्टि हो गई।” प्रदेश में कोविड-19 के 102 नए मामले सामने आने के बाद संक्रमण के मामले बढ़कर 423 हो गए हैं।

इस बीच, महाराष्ट्र में कोविड-19 के 2287 नये मरीज सामने आने के बाद राज्य में मंगलवार को इस महामारी के मामले बढ़कर 72,300 हो गये जबकि 103 और मरीजों की मौत हो जाने के साथ ही इस बीमारी से अब तक 2465 लोगों की जान चली गयी। इन 103 मरीजों में 49 इस महामारी से बुरी तरह प्रभावित मुम्बई के थे। अमरावती जिले में एक चार महीने की बच्ची में भी संक्रमण की पुष्टि हुई है। स्वास्थ्य विभाग ने एक बयान में यह जानकारी दी। उसके अनुसार मंगलवार को 1225 मरीजों को छुट्टी दी गयी जिससे अबतक अबतक 31,333 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। वहीं, गुजरात में मंगलवार को कोविड-19 के 415 नए मामले सामने आने के साथ ही राज्य में संक्रमितों की संख्या 17,632 तक पहुंच गई। राज्य के स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, कोरोना वायरस संक्रमण से 29 मरीजों की मौत के बाद मृतकों का आंकड़ा 1,092 हो गया। आज हुई 29 मौत में से अकेले अहमदाबाद में 24 मरीजों की जान गई। इसके मुताबिक, राज्य में मंगलवार को 1,114 मरीजों को स्वस्थ होने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। अब तक राज्य में 11,894 मरीज ठीक होकर घर जा चुके हैं जबकि 4,646 मरीज उपचाराधीन हैं। इनमें से 62 मरीज वेंटिलेटर पर हैं। अहमदाबाद में मंगलवार को संक्रमण के 279 नए मामले सामने आए और जिले में संक्रमितों की संख्या 12,773 हो गई। उधर, दिल्ली के उपराज्यपाल (एलजी) अनिल बैजल के दफ्तर के 13 कर्मचारी और छह अन्य सरकारी कर्मचारी कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं।

सूत्रों ने मंगलवार को बताया कि एलजी सचिवालय में काम करने वाले कनिष्ठ सहायक, चालक, चपरासी समेत 13 कर्मी जानलेवा कोविड-19 से संक्रमित पाए गए हैं। दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने निजी और सरकारी अस्पतालों में कोविड-19 के मरीजों के लिए खाली बिस्तरों (बेड) की जानकारी देने के वास्ते मंगलवार को ‘दिल्ली कोरोना’ ऐप शुरू किया। केजरीवाल ने कहा कि अगर ऐप में बिस्तर खाली दिखाए जाने के बावजूद अस्पताल मरीज को भर्ती करने से मना कर दे तो आप 1031 नंबर पर फोन कर शिकायत दर्ज करा सकते हैं और विशेष सचिव (स्वास्थ्य) इस बात को सुनिश्चित करेंगे कि मरीज को बिस्तर मिले। मुख्यमंत्री ने ऑनलाइन संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘कई ऐसी जगह हैं, जहां कोरोना वायरस का व्यापक प्रकोप है। वहां बिस्तरों, वेंटिलेटर और आईसीयू की कमी है, जिसकी वजह से बड़ी संख्या में लोगों की जान जा रही है।” उन्होंने कहा, ‘‘दिल्ली में मामले बढ़ रहे हैं, लेकिन हमने वेंटिलेटर और बिस्तरों की पर्याप्त व्यवस्था की है। हम कोरोना वायरस से कई कदम आगे हैं।” वहीं, पश्चिम बंगाल में में मंगलवार को अब तक एक ही दिन सबसे अधिक 396 मामले सामने आए, जिसके बाद राज्य में संक्रमितों की संख्या 5,772 हो गई। केरल में मंगलवार को अब तक एक ही दिन में कोविड-19 के सर्वाधिक 86 नए मरीज सामने आए, जिसके साथ ही राज्य में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 1,412 हो गई है। राज्य में इस घातक वायरस से एक और मरीज की मौत होने से मृतकों का आंकड़ा 11 तक पहुंच गया। स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा के हवाले से एक बयान में कहा गया कि तिरुवनंतपुरम मेडिकल कॉलेज एवं अस्पताल में मंगलवार को 77 वर्षीय पादरी की मौत हो गई।

इस बीच, उत्तराखंड में कोरोना वायरस से संक्रमित एक और व्यक्ति की मौत हो गयी जबकि मंगलवार को 85 नए मामले सामने आने से संक्रमित लोगों की संख्या बढ़कर 1043 हो गयी । उत्तराखंड के पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज के परिवार के कोरोना संक्रमित पांच सदस्यों को सोमवार देर शाम घर में पृथक-वास में रहने के लिए छुटटी दिये जाने के केवल दो घंटे बाद ही एम्स, ऋषिकेश में दोबारा भर्ती कर लिया गया। वहीं, तमाम एजेंसियों द्वारा चालू वित्त वर्ष के दौरान अर्थव्यवस्था में बड़ी गिरावट के अनुमान व्यक्त किये जाने के विपरीत प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने मंगलवार को देश की क्षमता, संकट प्रबंधन कौशल, किसानों और उद्यमियों पर भरोसा जताते हुये कहा कि भारत अपनी आर्थिक वृद्धि को वापस हासिल कर लेगा। मोदी यहां देश के प्रमुख उद्योग मंडल भारतीय उद्योग परिसंघ के 125वें वार्षिक सम्मेलन को संबोधित कर रहे थे। उन्होंने सुधारों की गति बढ़ाने और कृषि क्षेत्र को पुराने कानूनों की बंदिशों से मुक्त कर खोलने की दिशा में बढ़ने का भी जिक्र किया तथा कहा कि सरकार की ओर से उठाए जा रहे सुधारवादी कदमों का अर्थव्यवस्था को दीर्घकालिक लाभ होगा। मोदी ने कहा कि कोरोना के खिलाफ अर्थव्यवस्था को फिर से मजबूत करना सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता मे से एक है। सरकार जो फैसले तुरंत लिये जाने हैं वह ले रही है इसके साथ ही ऐसे भी निर्णय लिये गये हैं जो कि लंबे समय में देश की मदद करेंगे। प्रधानमंत्री ने आत्मनिर्भर भारत का जिक्र करते हुये सरंचनात्मक सुधारों को आगे बढ़ाने के साथ ही कृषि क्षेत्र के सुधारों के बारे में भी बताया। एजेंसी