Image: Google
Image: Google

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (CRPF) और भारतीय रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन (DRDO) ने मिलकर एक बाइक एम्बुलेंस (Bike Ambulance) का निर्माण किया है। इस बाइक एम्बुलेंस का नाम ‘रक्षिता’ (Rakshita) रखा गया है। यह एम्बुलेंस बेहद ही फायदेमंद साबित हो सकती है। यह एम्बुलेंस (Ambulance) खासकर नक्सली प्रभावित (Naxalite affected) जगहों के लिए बनाई गई है। वहीं मंगलवार के दिन दिल्ली (Delhi) में 21 बाइक एम्बुलेंस को लॉन्च किया गया है। इस बाइक एम्बुलेंस की मदद से घायल जवानों को समय पर मदद मिल सकेगी। 

इस एम्बुलेंस बाइक को बनाने का मकसद यह है कि देश में ऐसी बहुत सी जगहे हैं, जहाँ नक्सलियों का दबदबा बना रहता है। वहीं आए दिन CRPF के जवान इनसे मुठभेड़ करते हुए घायल हो जाते हैं। जिसके बाद उनके पास बहुत देर बाद सहायता पहुँच पाती है। जिससे उनकी हालत और भी ख़राब हो जाती है। ऐसे में CRPF की इस स्थिति में सुधार लाने के लिए यह बाइक एम्बुलेंस बनाई गई है। 

एक CRPF के सूत्र के अनुसार, यह बाइक एंबुलेंस बीजापुर, सुकमा, दंतेवाड़ा जैसे इलाकों में अधिक मददगार साबित होगी, क्योंकि यह एक तरह से खतरनाक क्षेत्र की श्रेणी में आते हैं, जहाँ जवान एम्बुलेंस या बड़े वाहन नहीं ले जा पाते हैं। 

CRPF के एक प्रवक्ता के अनुसार, बाइक के पीछे बैठने वाली सीट को घायल या बीमार मरीज़ के लिए एक अलग तरह के सीट में तब्दील किया गया है। इसमें हैंड इम्मोबिलाइज़र और हार्नेस जैकेट लगायी गई है। वहीं घायल या बीमार के महत्वपूर्ण मापदंडों को मापने के लिए चालक के डैशबोर्ड पर लगी एलसीडी के साथ निगरानी और आटोमेटिक वार्निंग सिस्टम प्रदान किया गया है। साथ ही उन्होंने बताया कि इस बाइक एम्बुलेंस में ऑक्सीजन किट और मरीज़ को सलाइन देने की सुविधा भी दी गई है। बल ने इस परियोजना के लिए 35.49 लाख रुपये से अधिक की प्रारंभिक निधि मंजूर की है।