India's engagement with South East Asia based on 'Act East Policy': Rajnath Singh
File Photo-ANI

    नई दिल्ली: भारत के रक्षा मंत्री  राजनाथ सिंह ने आसियान डिफेंस मिनिस्टर्स मीटिंग प्लस को संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया के लिए आतंकवाद सबसे बड़ा खतरा है। उन्होंने यह भी कहा कि पूरा विश्व एक परिवार है। सिंह ने कहा कि मौजूदा क्षेत्रीय और इंटरनेशनल सुरक्षा माहौल को देखते हुए अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा और शांति के लिए नए चैलेंज अब सामने आए हैं। 

    राजनाथ सिंह ने कहा कि भारत की अवधारणा ‘वसुधैव कुटुंबकम’ है। पूरी दुनिया एक परिवार है।ये और प्रासंगिक हो गई है। वर्तमान क्षेत्रिय और अंतर्राष्ट्रीय सुरक्षा माहौल को देखते हुए अंतर्राष्ट्रीय शांति और सुरक्षा के सामने नई चुनौतियां पैदा हो गई हैं। उन्होंने कहा कि भारत इंडो पेसिफिक क्षेत्र में एक स्वतंत्र, खुले और समावेशी व्यवस्था का आह्वान करता है जो राष्ट्रों की संप्रभुता और  क्षेत्रिय अखंडता पर आधारित हो और विवादों का समाधान अंतर्राष्ट्रीय नियमों और कानूनों के माध्यम से बातचीत से शांतिपूर्वक हो।  

    रक्षा मंत्री ने कहा कि दक्षिण पूर्व एशिया क्षेत्र के साथ भारत का जुड़ाव नवंबर 2014 में पीएम मोदी द्वारा घोषित ‘एक्ट ईस्ट पॉलिसी’ पर आधारित है। इस नीति के महत्वपूर्ण तत्व आर्थिक सहयोग और सांस्कृतिक संबंध बढ़ाना और इंडो पैसिफिक क्षेत्र के देशों के साथ रणनितिक संबंध स्थापित करना है।  

    उन्होंने कहा कि आतंकवाद और कट्टरपंथ दुनिया की सुरक्षा और शांति के लिए खतरा हैं जिनका आज दुनिया सामना कर रही है। भारत विश्वास करता है कि सिर्फ सामूहिक सहयोग से ही आतंकी संगठनों और उनके नेटवर्क को पूरी तरह नष्ट किया जा सकता है।