किसानों के समर्थन में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन, कई हिरासत में

लखनऊ. केंद्र के नए कृषि कानूनों (New Agriculture Law) के विरोध में किसानों के एक दिन के उपवास (One Day Fast Movement) के समर्थन में समाजवादी पार्टी (Samajwadi Party) के कार्यकर्ताओं ने प्रदेश के अनेक जिलों में प्रदर्शन किया। कई स्थानों पर उन्हें हिरासत में भी लिया गया। राजधानी लखनऊ के कैसरबाग (Kaiserbagh of Lucknow) इलाके में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं और पुलिस के बीच धक्का-मुक्की हुई। सपा कार्यकर्ता जिलाधिकारी कार्यालय जाना चाहते थे, लेकिन पुलिस ने उन्हें रोक लिया। महिला कार्यकर्ताओं समेत पार्टी के कई कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में ले लिया।

सपा के विधान परिषद सदस्य राजपाल कश्यप (Member of Legislative Council, Rajpal Kashyap) ने कहा, ”समाजवादी पार्टी किसानों की मांगों का समर्थन करती है और उसकी सहानुभूति किसानों के साथ है। समाजवादी पार्टी की किसान यात्रा सात दिसंबर को आरंभ हुई थी और आज 14 दिसंबर को पार्टी के कार्यकर्ता प्रदेश के सभी जिला मुख्यालयों पर धरना दे रहे हैं। पार्टी के बहुत से नेताओं को नजरबंद कर दिया गया है। मुझे हरदोई के संडीला में गिरफ्तार किया गया है।” आगरा में पुलिस ने समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं पर हल्का बल प्रयोग किया।

गोरखपुर (Gorkhapur) में पुलिस ने सपा नेताओं और कार्यकर्ताओं को उस समय हिरासत में ले लिया जब सोमवार को वे नगर निगम परिसर (Municipal corporation premises) में धरना प्रदर्शन करने जा रहे थे। पुलिस ने सुबह से ही पार्टी कार्यकर्ताओं को हिरासत में लेना शुरू कर दिया। पार्टी अध्यक्ष राम नगीना साहिनी (Party President Ram Nagina Sahini) और पूर्व अध्यक्ष जियाउल इस्लाम (Former President Ziaul Islam) को गिरफ्तार कर लिया गया है। शहर के विभिन्न इलाकों से पार्टी कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया गया। साहिनी ने कहा, ”पुलिस और सरकार शांतिपूर्वक विरोध प्रदर्शन का संवैधानिक अधिकार छीन रही है। फर्जी मामले दर्ज किए जा रहे हैं और हमें धरना प्रदर्शन नहीं करने दिया जा रहा है।”

गोरखपुर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक जोगेंद्र कुमार (Senior Superintendent of Police Jogendra Kumar) ने कहा, ‘‘जिले में धारा 144 पहले से लागू है। महामारी के कारण दो गज की दूरी का पालन किए बगैर एक स्थान पर लोगों का एकत्र होना सुरक्षित नहीं है। प्रदर्शन से पहले लोगों को मजिस्ट्रेट से इजाजत लेनी होनी, फिर कोई आपत्ति नहीं है।” बाराबंकी में सपा नेता और पूर्व मंत्री अरविंद सिंह गोप ने कहा कि सपा के सभी नेताओं के घर के बाहर भारी पुलिस बल तैनात कर दिया गया है। उन्होंने कहा, ”हम घर से बाहर निकलना चाहते है लेकिन हमें इसकी इजाजत नहीं है।” उन्होंने कहा कि किसानों का यह विरोध तानाशाही सरकार को उखाड़ फेकेंगा और 2022 के विधानसभा चुनाव में उप्र में सपा की सरकार बनेगी। कानपुर में शहर के व्यस्तम इलाके बड़ा चौराहा पर किसानों के समर्थन में समाजवादी पार्टी के नेता और कार्यकर्ता धरने पर बैठे।

शहर पार्टी अध्यक्ष डॉ इमरान ने कहा, ”हम किसानों के मुद्दे पर राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन देने जिलाधिकारी कार्यालय की तरफ जा रहे थे लेकिन पुलिस ने हमें रोक लिया।” सपा नेताओं को रोके जाने के बाद पार्टी विधायक अमिताभ बाजपेयी, इरफान सोलंकी सहित अनेक कार्यकर्ता बड़े चौराहे पर धरने पर बैठ गये। बलिया में सपा, कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों के नेताओं को घर में ही नजरबंद कर दिया गया। मुजफ्फरनगर में सपा और राष्ट्रीय लोकदल के कई नेताओं को विरोध प्रदर्शन से पहले ही हिरासत में ले लिया गया। बहराइच और सिद्धार्थनगर में सपा कार्यकर्ताओं के प्रदर्शन की सूचना है। महोबा में सपा नेता अमित यादव ने कहा कि 30 पार्टी नेताओं को पुलिस ने हिरासत में लिया है। हमीरपुर के अपर पुलिस अधीक्षक संतोष कुमार सिंह ने बताया कि 48 सपा कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में लिया है।

बांदा से मिली जानकारी के अनुसार के बुंदेलखंड़ में पुलिस की सख्ती से नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों और सपा का प्रस्तावित प्रदर्शन सोमवार को लगभग असफल रहा। बांदा के अपर पुलिस अधीक्षक (एएसपी) महेंद्र प्रताप सिंह ने बताया, ‘‘भाजपा सांसद के अस्थायी आवास और भाजपा के पीलीकोठी स्थित कार्यालय में रविवार शाम से ही अवरोधक लगाकर सुरक्षाकर्मी तैनात कर दिए गए थे।” उन्होंने बताया, ‘‘सोमवार को करीब ग्यारह बजे अशोक लॉट तिराहे पर कुछ सपा कार्यकर्ताओं ने शांतिपूर्ण तरीके से नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर ज्ञापन सौंपा है।” चित्रकूट के पुलिस अधीक्षक (एसपी) अंकित मित्तल ने बताया, ‘‘भाजपा सांसद आर.के. सिंह पटेल के बलदाऊगंज स्थित निजी आवास के अलावा चप्पे-चप्पे में पुलिस की तैनाती की गई थी। कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन की कोशिश में कुछ सपा कार्यकर्ताओं को हिरासत में लिया गया है।” (एजेंसी)