Criminal cases against 25 percent of candidates in the fifth phase of West Bengal elections: ADR
Representative Image

    नयी दिल्ली. प्राप्त ख़बरों और सूत्रों के अनुसार आज पांच राज्यों में आगामी विधानसभा चुनाव (Vidhan Sabha Elections) की तारीखों (Election Dates) का एलान चुनाव आयोग (Election Commission) कर सकता है। आज इस बाबत चुनाव आयोग ने दिल्ली स्थित विज्ञान भवन में आज शाम 4.30 बजे एक प्रेस कॉन्फ्रेंस (Press Conference) भी बुलाई है। यह भी माना जा रहा है कि इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में चुनाव आयोग आज चार राज्यों और एक केंद्र शासित प्रदेश में चुनाव तारीखों की घोषणा भी औपचारिक रूप से कर सकता है।

    गौरतलब है कि पश्चिम बंगाल (West Bengal), असम (Assam), तमिलनाडु (Tamil Nadu), केरल (Kerala)और पुडुचेरी (Puducherry) में आगामी कुछ ही महीनों में विधानसभा चुनाव होने हैं। जहाँ इन पांच राज्यों में से एक असम में बीजेपी की सरकार है। वहीं पुडुचेरी में पिछले हफ्ते कांग्रेस की सरकार गिरने से वहां पर अब राष्ट्रपति शासन लागू कर दिया गया है।

    कैसे हो सकता है चुनाव:

    वहीं आयोग के कुछ विश्वसनीय सूत्रों के अनुसार, पश्चिम बंगाल में शायद 6 से 8 चरण में चुनाव हो सकते हैं, जबकि असम में यही 3 चरणों में मतदान हो  सकता है। इसके साथ ही केरल, तमिलनाडु और पुडुचेरी में एक ही चरण में मतदान होने की आशंका जताई जा रही है। मीडिया रिपोर्ट और सूत्रों की मानें तो चारों राज्यों और केंद्र शासित प्रदेश की मतगणना एक ही दिन होगी। वहीं आगामी एक मई से पहले विधानसभा गठन की प्रक्रिया भी पूरी कर ली जाएगी।

    कब हो सकता है चुनाव:

    गौरतलब है कि आगामी चार मई 2021 से विभिन्न राज्यों कि बोर्ड की परीक्षाएं शुरू होने वाली हैं। इसके चलते चुनाव आयोग की योजना एक मई से पहले चुनाव कार्यक्रम संपन्न कराने की हो सकती है। बता दें कि चुनाव आयोग ने अब तक सबसे ज्यादा दौरे इन पांच राज्यों (पश्चिम बंगाल, असम, तमिलनाडु, पुडुचेरी और केरल) में ही किए हैं। वहीं एक टीम अभी भी पश्चिम बंगाल के दौरे पर है।

    यह बात भी ख़ास है कि कोरोना के बढ़ते संक्रमण के चलते चुनाव आयोग के सामने तमिलनाडु और केरल में चुनाव करवाना सबसे बड़ी और अहम् चुनौती है। वहीं पश्चिम बंगाल में भी विधासभा चुनाव कराना आयोग के लिए टेड़ी खीर साबित हो सकता है। हालांकि इन मुद्दों पर चुनाव आयोग का कहना है कि उसने कोरोना प्रोटोकॉल को ध्यान में रखते हुए अब तमाम तरह के उपाय किए हैं। इसके साथ ही सुरक्षाबलों का भी पूरा और व्यापक बंदोबस्त हो गया है। वहीँ यह भी माना जा रहा है कि कोरोना संक्रमण के चलते चुनाव में मतदान के समय में कुछ इजाफा भी किया जा सकता है।