farmer-protest-pm-narendra-modi-speech-mp-farm-law-delhi | किसानों को PM मोदी का संदेश- हर मुद्दे पर बात करने को सरकार तैयार, आपका हित ही प्राथमिकता | Navabharat (नवभारत)
ट्रेंडिंग टॉपिक्स
ब्रेकिंग न्यूज़
लाईव ब्लॉग
अंतिम अपडेटDecember, 18 2020

किसानों को PM मोदी का संदेश- हर मुद्दे पर बात करने को सरकार तैयार, आपका हित ही प्राथमिकता

ऑटो अपडेट
द्वारा- Rahul Goswami
कंटेन्ट राइटर
15:01 PMDec 18, 2020

PM मोदी: 25 दिसंबर को फिर आऊंगा आपसे मिलने

14:54 PMDec 18, 2020

PM मोदी: हम हर मुददे पर बात करने के लिए तैयार हैं

14:50 PMDec 18, 2020

PM मोदी: पंजाब के किसान की खेती में ज्यादा निवेश हो, हमारे लिए खुशी की ही बात

14:46 PMDec 18, 2020

PM मोदी: नए कानून में सिर्फ यही कि किसान चाहे मंडी में बेचे या फिर बाहर, ये उसकी मर्जी

14:43 PMDec 18, 2020

PM मोदी: आज दाल के किसान को भी ज्यादा पैसा मिल रहा

14:41 PMDec 18, 2020

PM मोदी: 2014 के समय देश में था दालों का संकट

14:37 PMDec 18, 2020

PM मोदी: विश्वास दिलाता हूं कि पहले जैसे MSP दी जाती थी, वैसे ही दी जाती रहेगी

14:34 PMDec 18, 2020

PM मोदी: MSP हटानी ही होती तो स्वामीनाथन कमेटी की रिपोर्ट लागू ही क्यों करते?

14:32 PMDec 18, 2020

PM मोदी: अब मधुमक्खी पालन, पशुपालन और मछली पालन को भी बढ़ावा

14:28 PMDec 18, 2020

PM मोदी: किसानों की तकलीफ को दूर करने के लिए पूरी ईमानदारी से किया काम

Load More

नयी दिल्ली. जहाँ एक तरफ देश का किसान (Farmers Protest) केंद्र सरकार द्वारा लाये गए ‘कृषि कानून'(Farm Laws) के खिलाफ अपना आंदोलन कर रहा है। वहीं इन सबके बीच आज देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) किसानों से सीधा संवाद करेंगे। मध्य प्रदेश सरकार (MadhyaPradesh Goverment) द्वारा चलाए जा रहे किसान सम्मेलन को आज PM मोदी संबोधित करने वाले हैं।

बताया जा रहा है कि इसमें 23 हजार पंचायत के किसान शामिल होने वाले हैं। आज शायद ‘कृषि कानून’ को लेकर PM मोदी यहां अपनी बात भी रख सकते हैं। गौरतलब है कि इससे पहले बीते गुरूवार को केन्द्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) ने भी किसानों को एक खुली चिट्ठी लिखी थी और कई प्रकार के आश्वासन भी दिए थे।

क्या लिखा था तोमर ने अपनी चिट्ठी में: 

दरअसल  केंद्रीय कृषि मंत्री नरेन्द्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) ने बीते गुरूवार को दिल्ली की विभिन्न सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे किसानों (Farmer) से आग्रह किया था कि वे ‘राजनीतिक स्वार्थ’ के लिए तीन कृषि कानूनों के खिलाफ फैलाये जा रहे भ्रम से बचें। उन्होंने आरोप भी लगाया था कि सरकार और किसानों के बीच ‘झूठ की दीवार’ खड़ी करने की साजिश रची जा रही है। किसानों के नाम लिखे एक पत्र में तोमर ने दावा किया था कि तीन कृषि सुधार कानून भारतीय कृषि (Indian Farming) में नये अध्याय की नींव बनेंगे, किसानों को और स्वतंत्र तथा सशक्त करेंगे।

क्या थी PM मोदी कि प्रतिक्रिया:

वहीं इसी मुद्दे पर प्रधानमंत्री ने प्रतिक्रिया देते हुए और किसानों के नाम लिखे गए पत्र को पढ़ने की अपील करते हुए ट्वीट में लिखा था कि, “कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसान भाई-बहनों को पत्र लिखकर अपनी भावनाएं प्रकट की हैं, एक विनम्र संवाद करने का प्रयास किया है। सभी अन्नदाताओं से मेरा आग्रह है कि वे इसे जरूर पढ़ें। देशवासियों से भी आग्रह है कि वे इसे ज्यादा से ज्यादा लोगों तक पहुंचाएं।”

गौरतलब है कि आज कृषि कानून पर जारी घमासान को लेकर PM मोदी सीधे किसानों से अपनी सरकार का पक्ष रख सकते हैं। आज PM मोदी का संबोधन करीब दोपहर दो बजे होगा। जिसमे वे वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के माध्यम से मध्य प्रदेश में होने वाले किसान सम्मेलनों को संबोधित करेंगे।

 

OK

We use cookies on our website to provide you with the best possible user experience. By continuing to use our website or services, you agree to their use.   More Information.