tractor

नयी दिल्ली. मोदी सरकार (Narendra Modi) द्वारा लाये गए कृषि कानून (Farm Laws) के खिलाफ जहाँ किसानों की जंग (Farmers Protest) का आज 54वा दिन है और आज एक बार फिर इस मुद्दे को देश की सर्वोच्च अदालत (Supreme Court) में सुना जाना है। जहाँ किसान संगठनों ने गणतंत्र दिवस (Republic Day) यानी 26 जनवरी को राजधानी दिल्ली में ट्रैक्टर रैली निकालने का ऐलान किया है और दिल्ली पुलिस से इस बाबत इजाजत मांगी है। वहीं आज इसी मसले पर अब सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई भी होनी है, ऐसे में किसानों को इजाजत मिलती है या नहीं इस पर आज सभी की नज़रें रहेंगी।

गौरतलब है कि केंद्र सरकार (Center) के कृषि कानूनों (Agriculture Laws) के खिलाफ प्रदर्शन (Protest) कर रहीं किसान यूनियनों (Farmer Unions) ने बीते रविवार को कहा था कि वे गणतंत्र दिवस (Republic Day) के अवसर पर दिल्ली (Delhi) में अपनी प्रस्तावित ट्रैक्टर परेड (Tractor Parade) निकालेंगे। इस पर यूनियन नेता योगेंद्र यादव (Yogendra Yadav) ने सिंघू सीमा (Singhu Border) स्थित प्रदर्शन स्थल पर एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए कहा कि, “हम गणतंत्र दिवस पर दिल्ली में बाहरी रिंग रोड पर एक ट्रैक्टर परेड करेंगे। परेड बहुत शांतिपूर्ण होगी। गणतंत्र दिवस परेड में कोई भी व्यवधान नहीं होगा। किसान अपने ट्रैक्टरों पर राष्ट्रीय ध्वज लगाएंगे।”

बता दें कि कृषि कानून के खिलाफ दिल्ली की सीमाओं पर धरना दे रहे हजारों किसानों को अब लगभग दो महीने पूरे हो चुके हैं। अब तक सरकार और किसानों के मध्य 10 राउंड की बातचीत हो चुकी है, कई मसलों पर सहमति बनी भी है लेकिन अब किसान संगठन तो अब तक तीनों कानूनों की वापसी पर अड़े हैं। ऐसे में इस विवाद का हल कब और कैसे निकलता है, इस पर भी अब  देश की निगाहें हैं।

विदित हो कि मुख्य रूप से पंजाब, हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के हजारों किसान दिल्ली के विभिन्न बार्डर पर पिछले 2 एक महीने से ज्यादा समय से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। केंद्र सरकार ने इन कानूनों को किसानों की आय बढ़ाने के उद्देश्य से प्रमुख कृषि सुधारों के रूप में प्रस्तुत किया है, लेकिन प्रदर्शनकारी किसान इस बात पर चिंता जता रहे हैं कि ये कानून न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) और “मंडी” व्यवस्था को कमजोर करेंगे उन्हें बड़े कोरपोरेट की दया पर छोड़ देंगे। मोदी सरकार का यह भी कहना है कि ये आशंकाएं गलत हैं। सरकार कानूनों को निरस्त करने से इनकार कर चुकी है।