केंद्र सरकार ने लिया बड़ा फैसला, दिल्ली में तैनात होंगी अर्धसैनिक बलों की 15 कंपनियां

नई दिल्ली: किसान ट्रैक्टर रैली (Farmer Tractor Rally) की आड़ में हुई हिंसा (Violence) पर केंद्रीय गृहमंत्रालय (Central Home Ministry) ने बड़ा निर्णय लिया है। जिसके तहत राजधानी दिल्ली (Delhi) में अर्धसैनिक बालों (Paramilitary forces) की 15 कंपनियों को तैनात किया जाएगा। इन कंपनियों में 10 सीआरपीएफ (CRPF) और पांच अन्य बालों की टुकड़ियां होंगी। प्रत्येक कंपनियों में 1000 सैनिक होंगे। 

अमित शाह ने ली बैठक

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने दिल्ली में हुई किसान हिंसा को लेकर गृह मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक की है। जिसमें मौजूदा कानून और व्यवस्था की स्थिति को लेकर चर्चा की गई और उनसे जानकरी ली। वहीं आज हुई हिंसा से जुड़ी हर पहलू की लगातार समीक्षा की जा रही है। इसको लेकर अबतक 3 बैठक हो चुकी हैं। गृह मंत्रालय और दिल्ली पुलिस ने हिंसा को लेकर एक विशेष टीम बनाई है, जो लगातार दिल्ली-एनसीआर के अधिकारियों से जानकारी इकठ्ठा रही है।

उपद्रवियों पर करे सख्त कार्यवाई  

दिल्ली पुलिस कमिश्नर एस एन श्रीवास्तव ने सभी पुलिस स्टेशनों को आदेश जारी किया है। जिसके तहत सभी उपद्रवियों पर सख्त से सख्त कार्यवाई किया जाए। कमिशनर ने यह निर्णय प्रदर्शनकारियों द्वारा पुलिस अधिकारियों पर हमला करने के ममलो को देखते हुए लिया है।

18 पुलिसकर्मी घायल 

उपद्रवियों ने रैली के दौरान पुलिस कर्मियों को निशाना बनाकर उनपर हमला किया गया। इन हमलों से दिल्ली पुलिस के 18 जवान घायल हुए हैं, जिनमें से एक की हालत नाज़ुक बनी हुई है। सभी घायलों को दिल्ली के एलएनजेपी अस्पताल में भर्ती कराया गाया है।

पुलिस ने संयम बरता 

दिल्ली पुलिस पीआरओ ईश सिंघल ने कहा, “प्रदर्शनकारी कुछ स्थानों पर हिंसक हो गए। कई पुलिस कर्मी घायल हो गए और सार्वजनिक संपत्तियों को भी नुकसान पहुंचा। पुलिस ने संयम बरता और जरूरत पड़ने पर बल का प्रयोग किया। मैं प्रदर्शनकारियों से निर्धारित मार्गों से लौटने और शांति बनाए रखने की अपील करता हूं।”