modi-shah

नयी दिल्ली. जहाँ मोदी सरकार (Narendra Modi) के विवादस्पद कृषि कानूनों (Farm Law) के खिलाफ आज किसान दिल्ली बॉर्डर पर लगातार 10वें दिन भी जमे हुए हैं।  वहीं आज किसानों (Farmers) और सरकार (Govermet) के बीच 5वें दौर की जरुरी बतचीत होनी है।  इसके साथ ही इस मुलाकात के ठीक पहले इस मुद्दे पर गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) के बीच अभी एक बैठक हो रही है।  इस बैठक में  रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) और कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर (Narendra Singh Tomar) भी मौजूद हैं।  केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल भी मीटिंग में शामिल होने पहुंचे हैं। 

आज होगी बातचीत:

दरअसल आज किसानों और केंद्र सरकार के बीच दोपहर 2 बजे, 5वें दौर की जरुरी बतचीत होनी है।  इस बैठक के ठीक पहले फिलहाल इस मुद्दे पर गृहमंत्री अमित शाह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मिलने पहुंचे हैं।  इधर केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि, “आज दोपहर 2 बजे किसानों के साथ एक बैठक निर्धारित है।  मुझे बहुत उम्मीद है कि किसान सकारात्मक सोचेंगे और अपना आंदोलन समाप्त करेंगे। “

  इधर किसान महापंचायत के नेता रामपाल जाट ने साफ़ कह दिया है कि सरकार को इन तीन काले कानूनों को वापस लेने की घोषणा करनी चाहिए।  इसके साथ ही सरकार को यह लिखित में देना होगा कि MSP जारी रहेगी।  अगर आज की बातचीत  से कोई सकारात्मक परिणाम नहीं निकलता है, तो राजस्थान के किसान NH-8 से दिल्ली की ओर प्रस्थान करेंगे और जंतर मंतर पर डेरा डालेंगे। 

राजीव गाँधी ने किया था ट्वीट:

गौरतलब है कि किसान चिल्ला बॉर्डर (दिल्ली-नोएडा लिंक रोड) पर प्रदर्शन कर रहे हैं। इन लोगों का कहना है अगर सरकार के साथ बातचीत में आज कोई नतीजा नहीं निकला तो फिर संसद का घेराव करेंगे। वहीँ इस मुद्दे पर कांग्रेस कांग्रेस (Congress) के पूर्व अध्यक्ष राहुल गाँधी (Rahul Gandhi) ने एक बार फिर कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे किसानों (Farmers) के समर्थन में अपना ट्वीट किया है।  आज राहुल गांधी ने कहा है कि, “बिना न्यूनत्तम समर्थन मूल्य और APMC के बिहार के किसान बेहद मुसीबत में हैं और अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पूरे देश को ही एक तरह से इसी कुएं में धकेल दिया है।”