sitaraman-forbes

नयी दिल्ली. एक बड़ी खबर के अनुसार वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण (Nirmala Sitaraman), अमेरिका की नवनिर्वाचित उपराष्ट्रपति कमला हैरिस (Kamla Harris) बायोकॉन की संस्थापक किरण मजूमदार शॉ (Kiran Majumdar Shaw) और एचसीएल एंटरप्राइजेज की CEO रोशनी नडार मल्होत्रा (Roshina Nadar) दुनिया की सर्वाधिक 100 शक्तिशाली महिलाओं की फोर्ब्स की सूची (Forbes List) में शामिल हो गई हैं। 

 जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल शीर्ष स्थान पर काबिज:

इस सूचि में ख़ास बात यह है कि लगातार दसवें साल जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल शीर्ष स्थान पर काबिज हैं। वहीं अमेरिका की नवनिर्वाचित उपराष्ट्रपति कमला हैरिस इस सूची में तीसरे स्थान पर और भारत की वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण इस सूची में इस 41वें स्थान पर हैं। इस बार के 17वीं वार्षिक ‘फोर्ब्स पावर लिस्ट’ में 30 देशों की महिलाएं शामिल की गई हैं। 

एक न्यूज एजेंसी हवाले से माने तो फोर्ब्स ने कहा है कि , ‘इसमें दस देशों की प्रमुख, 38 सीईओ और पांच मनोरंजन क्षेत्र से जुड़ी महिलाएं शामिल की गई हैं। यह भी प्रासंगिक है कि भले ही वे उम्र, राष्ट्रीयता और अलग-अलग पेशे से सम्बन्ध रही हों लेकिन 2020 की चुनौतियों का सामना करने के लिए उन्होंने अपने मंचों का इस्तेमाल एक सकारात्मक तरीके से किया है ।’

कौन सी भारतीय महिलाएं है लिस्ट में शामिल:

इस बार की फोर्ब्स सूचि में देश की वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण सूची में 41वें स्थान पर हैं, रोशनी नडार मल्होत्रा 55वें स्थान पर हैं और किरण मजूमदार शॉ इस  68वें पायदान पर हैं। वहीं लैंडमार्क समूह की प्रमुख रेणुका जगतियानी को सूची में 98वां स्थान मिला  है। ख़ास बात यह है कि जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल लगातार दसवें वर्ष भी अपने पहले स्थान पर ही कायम हैं।

क्यों हैं मर्केल इस बार भी टॉप पर ? 

लगातार दसवें साल जर्मनी की चांसलर एंजेला मर्केल के शीर्ष स्थान में होने पर फोर्ब्स ने कहा कि, ” आपको समझना होगा कि मर्केल यूरोप की प्रमुख नेता हैं और फिर जर्मनी को वित्तीय संकट से उबारकर क्षेत्र की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था का नेतृत्व भी वेकर रही हैं। वहीं अमरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप का विरोध कर जर्मनी में दस लाख से अधिक शरणार्थियों को रहने की अनुमति देने वाली मर्केल का नेतृत्व हमेशा ही बेहद मजबूत रहा है। लेकिन अब जो सबसे अहम् सवाल जो कि लोग अब पूछ रहे हैं कि मर्केल का कार्यकाल समाप्त होने के बाद फिर उनकी जगह कौन लेगा?’

कमला हैरिस को मिला तीसरा स्थान: 

इस बार अमेरिका की नवनिर्वाचित उपराष्ट्रपति हैरिस पहली अश्वेत महिला हैं जो इस पद पर पहुंची हैं और सूची में भी अब तीसरे स्थान पर हैं। इसके साथ ही न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जेसिंडा आर्डर्न सूची में दूसरे स्थान पर हैं जिन्होंने कड़े लॉकडाउन को लागू कर अपने देश को कोराना संक्रमण  की पहली एवं दूसरी लहर से बचाया।

इसके साथ ही हम अगर देखें तो ताईवान की राष्ट्रपति साई इंग वेन इस बार 37वें स्थान पर हैं जिन्होंने जनवरी में कोरोना संक्रमित मरीजों के संपर्क में आए लोगों का पता लगाने का कठिन और दुष्कर कार्यक्रम लागू किया था। कुल मिलकर इस बार की  ‘फोर्ब्स पावर लिस्ट’ में महिलायों की भागीदारी बढ़ी है और उन्होंने कोरोना काल में अपने कार्यों से विश्व को एक नयी सकारात्मक दिशा दी है।