India want to increase transport connectivity to Bangladesh and beyond in next 20 years: Jaishankar
File

नई दिल्ली: गलवान घाटी में चीन के साथ हुई झड़प में शहीद हुए सैनिकों पर देश में राजनीति तेज हो गई है. कांग्रेस लगातार इस को लेकर केंद्र सरकार और प्रधानमंत्री पर निशाना साध रही है. गुरुवार को कांग्रेस नेता राहुल गाँधी एक वीडियो ट्वीट करते हुए सरकार से सवाल किया था कि सैनिक बिना हथियार के कैसे गए? जिसका जवाब विदेश मंत्री एस.जयशंकर ने दिया है. 

विदेश मंत्री ने ट्वीट करते हुए कहा, ‘ आइये हम तथ्यों को सीधा करते हैं। सीमा पर सभी सैनिक हमेशा हथियार लेकर जाते हैं, खासकर जब पद छोड़ते हैं। 15 जून को गालवान में उन लोगों ने ऐसा किया। लंबे समय से चली आ रही प्रथा (1996 और 2005 के समझौतों के अनुसार) फेसऑफ़ के दौरान आग्नेयास्त्रों का उपयोग नहीं किया जाएगा.

गौरतलब है कि राहुल गाँधी ने सुबह एक विडियो को ट्वीट करते हुए सरकार से सवाल पूछा था कि, ‘चीन ने हमारे असहाय सैनिकों को मारने की हिम्मत कैसे की? हमारे सैनिकों को बिना हथियार शहादत के लिए क्यों भेजा गया?’