Gadkari

नयी दिल्ली.  मोदी सरकार  (Narendra Modi) द्वारा लाये गए नए विवादस्पद कृषि कानूनों (Farm laws) के खिलाफ आज जहाँ किसानों का प्रदर्शन 20वें दिन में प्रवेश कर गया है। वहीँ इस मुद्दे पर केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने किसानों का आह्वान करते हुए कहा कि देश के किसान इस बात को समझे कि केंद्र सरकार उनके साथ कभी किसी भी प्रकार कि नाइंसाफी नहीं होने देगी।

क्या कहा गडकरी ने:

दरअसल आज  केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने ने कहा है कि, “हमारे किसानों को यह बात समझना चाहिए कि सरकार उनके साथ किसी तरह की नाइंसाफी नहीं होने देगी।” इसके साथ ही उन्होंने आज किसानों को यह प्रस्ताव भी दिया कि वे सरकार के साथ आएं और इन कानूनों पर एक चर्चा या बात करें। उन्होंने यह भी कहा कि उनकी सरकार किसानों के कल्याण के लिए ही समर्पित है और यदि किसान कृषि कानूनों को लेकर कोई सुझाव देते हैं तो सरकार उसे मानने को भी  तैयार होगी। 

नहीं लगता कि अन्ना, आन्दोलन में होंगे शामिल: गडकरी

वहीं सामाजिक कार्यकर्ता अन्ना हजारे (Anna Hazare) के किसान आंदोलन में शामिल होने के प्रश्न में गडकरी ने कहा कि, उन्हें नहीं लगता कि अन्ना हजारे इस आंदोलन में शामिल होंगे। सरकार ने किसानों के खिलाफ कुछ गलत नहीं किया है। ये हमारे किसानों का अधिकार है कि वे अपने उपज को मंडी में बेचें, या व्यापारी को बेचें या फिर किसी अन्य को । उन्होंने कहा यह भी कि कुछ लोग किसानों को भ्रमित करने की कोशिश कर रहे हैं ये गलत है। किसानों को इन तीनों कानूनों को समझना चाहिए यह उनके हित के लिए ही बनाये गए हैं।