Health Ministry gave relief in guidelines for handing over dead bodies to suspected families of covid-19

नयी दिल्ली. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी (Nitin Gadkari) ने शुक्रवार को आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) में 15,592 करोड़ रुपये की राजमार्ग परियोजनाओं (Highway project) का उद्घाटन किया और आधारशिला रखी। इनमें 16 राजमार्ग परियोजनाएं शामिल हैं जो 1,411 किलोमीटर से अधिक जबकि लंबी हैं। सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय (Ministry of Road Transport and Highways) ने एक बयान में कहा, ‘‘केंद्रीय सड़क परिवहन, राजमार्ग और एमएसएमई (सूक्ष्म, लघु एवं मझोले उद्यम) मंत्री गडकरी ने आंध्र प्रदेश में 15,592 करोड़ रुपये की 16 राष्ट्रीय राजमार्ग परियोजनाओं का उद्घाटन किया और आधारशिला रखी। इन परियोजनाओं की कुल लंबाई 1,411 किलोमीटर है।”

इस मौके पर आयाजित कार्यक्रम को वीडियो कांफ्रेन्सिंग के जरिये संबोधित करते हुए गडकरी ने कहा कि मई 2014 से पहले आंध्र प्रदेश में राष्ट्रीय राजमार्गों की लंबाई 4,193 किलोमीटर थी जो अब बढ़कर 6,860 किलोमीटर हो गयी है। इस दौरान कुल 2,667 किलोमीटर यानी 64 प्रतिशत की इसमें वृद्धि हुई। उन्होंने कहा कि 34,100 करोड़ रुपये के कार्य विस्तृत परियोजना रिपोर्ट (डीपीआर) चरण में हैं जबकि 25,440 करोड़ रुपये की परियोजनाओं पर काम जारी है।

मंत्री ने कहा कि 18,100 करोड़ रुपये की परियोजनाओं पर 50 से 60 प्रतिशत काम हो गया है। गडकरी ने कहा कि राज्य में भारतमाला परियोजना के तहत 5,000 किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्ग का विकास किया जा रहा है। इसके अलावा कार्यक्रम के तहत बंदरगाह से जुड़े 400 किलोमीटर सड़कों का विकास किया जाएगा। उन्होंने कहा, ‘‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नये भारत के दृष्टिकोण के अनुरूप भारतमाला परियोजना जैसे कार्यक्रम के जरिये वैश्विक स्तर की परिवहन ढांचागत सुविधाओं का विकास किया जा रहा है। भारतमाला परियोजना भारत का सबसे बड़ा बुनियादी ढांचा विकास कार्यक्रम है।”

गडकरी ने कहा कि भारतमाला परियोजना के तहत दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेसवे, दिल्ली-अमृतसर-कटरा एक्सप्रेसवे, चेन्नई-बेंगलुरू एक्सप्रेसवे जैसी महत्वपूर्ण गलियारों का विकास किया जाएगा।  उन्होंने कहा कि 335 किलोमीटर लंबे अनंतपुर-अमरावती एक्सप्रेसवे का निर्माण भी इस कार्यक्रम के तहत किया जा रहा है। इस मौके पर आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री वाई एस जगन मोहन रेड्डी, केंद्रीय सड़क परिवहन राज्यमंत्री जनरल (सेवानिवृत्त) डा. वी के सिंह, केंद्रीय गृह राज्यमंत्री जी किशन रेड्डी समेत अन्य लोग मौजूद थे। (एजेंसी)