Cocktail vaccine

    नई दिल्ली: देश में टीकाकरण अभियान (Vaccination Program) शुरू है। अभी तक करीब 20 करोड़ से ज्यादा लोगों को कोरोना की वैक्सीन (Vaccine) लगाई जा चुकी है, जिसमें पहला और दूसरा डोज दोनों शामिल है। इसी बीच उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) से बेहद चौंकाने वाली खबर आई है, जहां 20 लोगों को अलग अलग टीका लगाया गया।यह ख़बर बाहर आने के बाद देश में बवाल मच गया है। वहीं इसी पर अब केंद्र सरकार ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। नीति आयोग (Niti aayog) में स्वास्थ्य सदस्य डॉ. वीके पॉल (Dr. VK Paul) ने कहा कि, “इससे घबराने की जरुरत नहीं है।”

    स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा आयोजित प्रेस वार्ता में डॉ. पॉल ने कहा, “प्रोटोकॉल के अनुसार, जिस वैक्सीन की पहली खुराक ली गई हो, उसी वैक्सीन की दूसरी खुराक की जानी चाहिए। अगर लोगों को अलग-अलग खुराक मिल रही है तो चिंता का कोई कारण नहीं है, यह सुरक्षित है। हम परीक्षण के आधार पर मिक्स एंड मैच (वैक्सीन की खुराक) करने की सोच रहे हैं।”

    मामले की जाँच शुरू 

    इसके पहले यूपी में दी गई दूसरी COVID19 वैक्सीन की गलत खुराक की घटना पर पूछे गए सवाल पर बोलते हुए वीके पॉल ने कहा, “प्रोटोकॉल स्पष्ट है कि दी गई दोनों खुराक एक ही टीके की होनी चाहिए। इस मामले की जांच होनी चाहिए। अगर ऐसा हुआ भी है तो यह चिंता का विषय नहीं होना चाहिए।”

    फाइजर जुलाई तक टीके की करेगा आपूर्ति 

    डॉ वीके पॉल ने कहा, “हम फाइजर के साथ जुड़े हुए हैं क्योंकि उन्होंने आने वाले महीनों में संभवतः जुलाई में टीकों की एक निश्चित मात्रा की उपलब्धता का संकेत दिया है। उन्होंने सभी राष्ट्रों के प्रति दायित्व के विरुद्ध क्षतिपूर्ति का अनुरोध किया है। हम इस अनुरोध की जांच कर रहे हैं। अभी कोई फैसला नहीं हुआ है।”