Mehbooba Mufti gave a disturbing statement before the all-party meeting, said this on Pakistan
File

    श्रीनगर: गुपकर जन घोषणापत्र गठबंधन (पीएजीडी) के अध्यक्ष फारूक अब्दुल्ला (Farooq Abdullah) ने मंगलवार को बताया कि, गठबंधन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) द्वारा बुलाई गई सर्वदलीय बैठक में शामिल होगा। यह घोषणा यहां अब्दुल्ला के गुपकर रोड स्थित आवास पर केंद्र के निमंत्रण को लेकर चर्चा करने के लिए बुलाई गई पीएजीडी नेताओं की बैठक के बाद की गई। पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी) की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती (Mehbooba Mufti) और मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी (माकपा) नेता एम वाई तारिगामी सहित घटक दलों के नेता नेशनल कॉन्फ्रेंस के अध्यक्ष अब्दुल्ला के आवास पर पहुंचे थे।

    जम्मू-कश्मीर के राजनीतिक दलों ने पिछले दो दिन बैठक करके विचार-विमर्श किया। लेकिन इस बैठक से पहले पूर्व मुख्यमंत्री मेहबूबा मुफ्ती ने कहा, सरकार दोहा में तालिबान के साथ बातचीत कर रही है। उन्हें जम्मू-कश्मीर में बातचीत करनी चाहिए। उन्हें इन मुद्दों के समाधान के लिए पाकिस्तान के साथ भी बातचीत करनी चाहिए। 

    खबर है क, इससे पहले मीडिया से बातचीत में महबूबा मुफ्ती ने कहा कि, हम बातचीत के खिलाफ नहीं हैं, लेकिन हम जरूर चाहते हैं कि कुछ ‘कॉन्फिडेंस बिल्डिंग मेझर’ होने चाहिए। पूरे देश में कोरोना महामारी के दौरान कैदियों को रिहा किया गया, जम्मू कश्मीर में भी ऐसा होना चाहिए था। उन्होंने कहा कि, हमारा ख्याल था कि गुपकार गठबंधन के हेड के तौर पर फारूख साहब जाएंगे, लेकिन इनका कहना है कि, सबको अलग-अलग बुलाया गया है और सबको अलग-अलग ही जाना चाहिए।

    महबूबा मुफ्ती ने कहा कि, हम अपना एजेंडा उनके सामने रखेंगे और उम्मीद करेंगे कि, फिलहाल कम से कम जेलों में बंद हमारे लोगों को रिहा किया जाए, अगर रिहा नहीं कर सकते तो कम से कम जम्मू-कश्मीर ले आएं ताकि वे अपने परिवारों से तो मिल सकें।उन्होंने कहा, गुपकार गठबंधन के एजेंडा के तहत हम बात करेंगे और जो कुछ हमसे छीना गया है उसपर भी हम बातचीत करेंगे। क्यूंकि इसको बहाल किए बगैर जम्मू-कश्मीर में अमन बहाल नहीं किया जा सकता।