Hearing in the Supreme Court today, Delhi's borders closed

नई दिल्ली: किसान आंदोलन (Kisan Protest) का आज 47वां दिन है। सुप्रीम कोर्ट में किसान आंदोलन से जुड़ी याचिकाओं पर सुनवाई शुरू हो गई है। सरकार की ओर से अदालत में कहा गया कि दोनों पक्षों में हाल ही में मुलाकात हुई, जिसमें तय हुआ है कि चर्चा चलती रहेगी। हालांकि, चीफ जस्टिस ने इसपर नाराजगी व्यक्त की। चीफ जस्टिस ने कहा कि जिस तरह से सरकार इस मामले को हैंडल कर रही है, हम उससे खुश नहीं हैं। हमें नहीं पता कि आपने कानून पास करने से पहले क्या किया। पिछली सुनवाई में भी बातचीत के बारे में कहा गया, क्या हो रहा है?

हरियाणा के करनाल में बीते दिन मुख्यमंत्री मनोहर खट्टर (Manohar Khattar) की सभा वाली जगह पर हुए बवाल पर अब एक्शन हुआ है। पुलिस के द्वारा इस मामले में 71 लोगों पर FIR दर्ज कर ली गई है। इस मामले में सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने का आरोप लगा है। किसानों ने रविवार को 500 जत्थेबंदियों का डेटा तैयार किया और वकील प्रशांत भूषण से 3 घंटे चर्चा चली। कोर्ट को बताया जाएगा कि आंदोलन में सिर्फ पंजाब ही नहीं, बल्कि देशभर के किसान संगठन शामिल हैं।

दिल्ली पुलिस (Delhi Police) ने सोमवार को जानकारी दी कि चल रहे किसान विरोध के कारण नोएडा और गाजियाबाद से राष्ट्रीय राजधानी के लिए आने वाले यातायात के लिए चीला और गाजीपुर सीमाएँ बंद हैं। लोगों को सलाह दी गई है कि वे आनंद विहार, दिल्ली-नोएडा डायरेक्ट फ्लाईवे, भोपड़ा और लोनी बॉर्डर के रास्ते वैकल्पिक रास्ते अपनाएं। इसके अलावा, सिंघू, औचंदी, पियू मनियारी, सबोली और मंगेश में दिल्ली-हरियाणा सीमा भी बंद कर दी गई है।

पुलिस ने हरियाणा के यात्रियों को लामपुर सफियाबाद, पल्ला और सिंघू स्कूल टोल टैक्स सीमाओं के माध्यम से वैकल्पिक मार्ग लेने का सुझाव दिया है। ट्रैफिक को मुकरबा और जीटीके रोड से मोड़ दिया गया है।

दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने ट्वीट किया, “ट्रैफिक अलर्ट सिंघू, औचंदी, पियू मनियारी, सबोली और मंगेश बॉर्डर बंद। कृपया एक वैकल्पिक मार्ग लेंपुर सफ़ियाबाद, पल्ला और सिंघू स्कूल टोल टैक्स बॉर्डर के माध्यम से लें। मुकरबा और जीटीके रोड से ट्रैफ़िक को डायवर्ट किया गया है। कृपया आउटर रिंग रोड, जीटीके  रोड एंड एनएच -44 से बचें।”

हरियाणा में प्रवेश करने के लिए वैकल्पिक मार्गों के बारे में भी बताया और राज्य के लिए उपलब्ध खुली सीमाएँ निम्नलिखित हैं- झारोदा (केवल एकल कैरिजवे / रोड), दौराला, कापसहेड़ा, बदुसराय, राजोखरी NH-8, बिजवासन / बजघेरा, पालम विहार और डूंडाहेड़ा बॉर्डर।

इस चिंता के साथ कि कृषि कानून न्यूनतम समर्थन मूल्य (MSP) और मंडी प्रणालियों को कमजोर कर देंगे और किसानों को बड़े कॉर्पोरेट की दया पर छोड़ देंगे, किसान किसानों के व्यापार के खिलाफ एक महीने से अधिक समय से राष्ट्रीय राजधानी की विभिन्न सीमाओं पर विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं।